Friday, 21 August 2015

युगान्धर भूमि - अध्याय 2


युगान्धर-भूमि
ग्रहण की दस्तक



अध्याय 2



भोर होने वाली थीसूर्य की किरणों ने क्षितिज में अपनी लाली बिखेर दी थीआश्रम क्योंकि बहुत उँचाई पर हैं इसलिए सुबह की सबसे पहली किरण आश्रम को दस्तक देती हैं। आश्रम से थोड़ी दूर पर भोमी पर्वत श्रृंखलाओं से बहुत सी जल धाराएँ आकर घाटी में झरने की शक्ल में गिरती हैं। इसी घाटी के उपर झरने के उद्गम से कुछ अंतराल पर है यह आश्रम। इस आश्रम तक आने जाने के लिए घाटी के बगल से एक सीधी चढ़ाई है और अगर इस रास्ते उतरते हुए आगे जाएं तो तापी नदी का किनारा दूर तक साथ चलता है।
भोर के हल्के से उजाले में पाँच आकृतियाँ तापी नदी के मद्धिम प्रवाह में खड़ी थीये आकृतियाँ थी वेगदुष्यंतप्रतापमेघ और विधुत कीऔर ये लोग यहाँ नियमित रूप से सूर्य नमस्कार करने के बाद अपनी दिनचर्या की शुरुआत करते हैं। क्योंकि जैसा इनको सिखाया गया हैपूरी सृष्टि की ऊर्जा एवं जीवन का एकमात्र श्रोत यही सूर्य है जिसकी शक्ति के बल पर उनका शरीर कायम है। अपने जीवन आधार को ये सभी इस प्रकार से धन्यवाद कहते हैं। स्नान के साथ सब का सूर्य नमस्कार भी पूरा हो चुका थावो कुछ और देर वहाँ रुककर तैराकी करते परन्तु सुदर्शन की पुकार ने सब का ध्यान अपनी ओर खींच लिया। उन्होंने देखा वह किनारे पर खड़ा कुछ चिल्ला रहा था। वह शायद अभी तक उनके सूर्य नमस्कार के समाप्त होने की प्रतीक्षा कर रहा था।
आप सभी को गुरु जी बुला रहे हैंजल्दी पहुँचिए आप लोग...” वह लगभग चिल्ला के बोल रहा था क्योंकि एक तो नदी का शोर और दुसरा किनारा सभी से बहुत दूर था।
क्या कह रहा है सुदर्शनकुछ सुनाई दे रहा है क्या तुम लोगों को?” वेग ने बाकी सब की ओर देख कर पूछा तो सब ने अपनी गर्दन ना में हिला दी।
चलो बाहर चल कर के देखते हैंइस पर कौन सी प्रलय आन पड़ी है जो यह इतने भोर में अपना सब काम छोड़ कर गले का व्यायाम कर रहा है?” प्रताप बाहर की ओर बढ़ते हुए बोला तो सब उसके साथ बाहर चल दिए।
*
चेहरे पर एक अनोखा सा तेजमजबूत कद काठी और लगभग 60 वर्ष की आयु। आश्रम के मुख्य कक्ष में गुरु शौर्य अपने शिष्यों के सामने बैठे हैं। सभी के चेहरों पर उत्सुकता स्पष्ट झलक रही हैसहज ही था क्योंकि आज अभ्यास के बीच में ही गुरु शौर्य ने सभी को एक साथ बुलाया था।
मुझे यह बताते हुए बहुत प्रसन्नता हो रही है कि आप लोगों ने अपनी शिक्षा लगभग पूरी कर ली है और अब बहुत अतिशीघ्र आप लोग हम धर्मरक्षकों का स्थान लेने वाले हैं।” शौर्य इतना कहकर एक क्षण को चुप हो गये और सभी की आँखों में देखने लगे। अचानक मिली इस सूचना से सभी के चेहरों के भाव बदल से गये थे।
आप लोगों के साथ इतना समय कैसे बीत गया कुछ पता ही नहीं चला। जो भी हैयह समय तो आना ही था… अच्छा अब जो एक बहुत विशेष बात मैं आप सभी को बताना चाहता हूँ वह यह है कि...” शौर्य ने सब के चेहरों के बदलते रंग को देख अपनी बात बीच में रोक दी।
आप सभी को अचानक क्या हुआक्या आप लोग खुश नहीं हैंआप सभी ने इतने वर्ष जो तपस्या की है वह सब इसी दिन के लिए तो थी और आप के चेहरों पर कोई हर्ष या प्रसन्नता भी दिखाई नहीं दे रही है।” शौर्य सब के मन की दशा जानते थे फिर भी उन्होंने बिना प्रकट किए सब को समझाने का यह प्रयास किया था। परंतु शौर्य के इस प्रश्न का उत्तर किसी के पास नहीं था और सभी एक दूसरे का मुंह ताक रहे थे।
नहींऐसा नहीं है गुरु जीहमें भी खुशी है परंतु…” विधुत इतना ही कह पाया।
बस अचानक से यह समाचार… हम में से किसी को यह अंदेशा नहीं था इसीलिए कुछ समझ नहीं आ रहा कि क्या कहें?” वेग ने हँसने का प्रयास करते हुए विधुत की बात को पूरा किया।
तुम्हारी स्थिति मैं समझता हूँ क्योंकि बिल्कुल ऐसी ही परिस्थिति में एक समय मैं और मेरे साथी भी थे। परन्तु भरोसा रखो सब कुछ जल्दी ही सामान्य हो जाएगा।” शौर्य ने कहा परन्तु सब के चेहरे अभी भी पूर्ववत मुरझाए हुए से थे।
एक नया प्रारंभ होने वाला है आप लोगों के जीवन मेंकुछ खुशी दिखनी चाहिए आपके चेहरों पर। इस प्रकार आप लोग अच्छे नहीं दिखते हैं।” शौर्य के इतना कहने पर भी सब के चेहरे वैसे ही थे। चलो बाहर चल कर बात करते हैं।
शौर्य के साथ सभी आश्रम से बाहर खुले में आ गये थे। उन्होंने उगते हुए सूर्य को देखा फिर एक बार पीछे मुड़कर सब की ओर देखा और उस दिशा चल दिए जहाँ से झरने का पूरा प्रवाह दिखता है।
चले आओरुको नहींमेरे साथ आओ…” वो फुर्ती से जा रहे थेकिसी को समझ नहीं आया कि शौर्य उन्हें कहाँ और क्यों ले जा रहे हैंवो उनके साथ चल दिए।
मेरा मन भी थोड़ा दुखी है इस बात से कि अब आप लोगों से दूर होने का समय निकट आ गया है,” शौर्य ने कहना प्रारंभ किया। परन्तु यह तो पहले से तय था सो इस बात से मन को दुखी करने का कोई औचित्य नहीं है। तुम्हें मालूम हैपूरे संसार में केवल आप लोगों को अवसर मिला है अपने जीवन को सार्थक करने कापरमात्मा के द्वारा निर्मित इस सुंदर से संसार को सुरक्षा प्रदान करने का और संपूर्ण जीवन मात्र की सेवा करने का। इस गौरव और इस आनंद को अनुभव करके देखोअच्छा लगेगा।
शौर्य उस किनारे पर आ गये थे जहाँ से झरने का प्रवाह और उपर से गिरते हुए पानी का पूरा फैलाव साफ दिखाई दे रहा था। गिरते हुए पानी से हल्की ओस उठ रही थीदूर पहाड़ी के पीछे से सूर्य ने आकाश पर कदम रख दिए थेमखमली धूप घाटी के दोनों ओर वृक्षों पर बिछ गई थी। यह प्रकृति का एक बहुत ही अद्भुत दृश्य था और भोर में पक्षियों के शोर ने इस दृश्य में संगीत सा भर दिया था। शौर्य ने अपने दोनों हाथों को इस प्रकार से फैलाया जैसे कि वो सूर्य की पूरी रोशनी को समेट रहे हों। उनके चेहरे पर एक आनंद से परिपूर्ण मुस्कुराहट उभर आई थी।
आओ और मेरे साथ इस अहसास को स्पर्श करके देखोक्योंकि हर सवेरा नया और सदा की भाँति ऊर्जावान होता है।” शौर्य ने आँखें बंद कर के कहा।
शौर्य की बात का अनुसरण करते हुए सभी शौर्य के दोनों ओर उस की मुद्रा में खड़े हो गये थे। यह एक बहुत ही जीवंत और स्वस्थ अहसास थायह उनके चेहरों पर आए उस तेज से प्रतीत हो रहा था। सच में आज कुछ नया लग रहा था उन सभी कोएक नई उमंग उन सभी के चेहरों पर खिल गई थी।
कुछ पलो के बाद शौर्य ने अपने हाथों को नीचे किया। अब समझ में आया कि आने वाली सुबह भी बिल्कुल ऐसी ही होगी?” उस नये मनोबल के साथ सब के चेहरों पर मुस्कुराहट तैर रही थी।
हाँ गुरु जीबिल्कुल समझ में आ गया।” विधुत ने कहा तो बाकी सब ने भी उसके साथ हाँ में सर हिलाते हुए अपना समर्थन दिया।
और आप लोग यह क्यों भूलते हैं कि आप लोगों की यह मित्रता और एक दूसरे का साथ तो सदैव यूँ ही रहेगाऐसे मित्र तो भाग्य से मिलते हैं। भाग्यशाली हो आप सभी।” शौर्य की बात पर सभी एक दूसरे को देखने लगेसब के चेहरे पर वो गर्व दिख रहा था जो शौर्य की बातों का ही प्रभाव था।
आप सही कह रहे हैं गुरु जीहम समझ गये।” वेग ने कहा।
हाँअब ठीक है। तुम लोगों का उदास होना मुझे बिल्कुल भी पसंद नहीं है।” शौर्य वापस आश्रम की ओर मुड़ गये थे। अच्छा अब कुछ और भी ऐसा है जो आप लोगों को मालूम होना चाहिए। आप ही में से किसी एक को अब वह दायित्व भी संभालना होगा जो कि अभी तक मैंने उठा रखा था। महान गुरु प्रथक ने जो दायित्व मुझे दिया था वही अब मुझे आगे किसी के हाथों में सौंपना है। यह परन्तु अभी तक हमने निश्चित नहीं किया है कि आप लोगों में से वह कौन होगा। एक शिक्षक होने के नाते मुझे आप सभी पर बहुत गर्व है कि मैंने आप लोगों को चुना। आप सभी ने पूरी निष्ठा और कठिन परिश्रम के साथ अपनी शिक्षा पूरी की है परन्तु…” गुरु शौर्य कुछ देर के लिए चुप होकर सभी को देखने लगे।
परन्तु अब यहाँ आप में से किसी एक को इस दायित्व के लिए चुनना मेरे लिए सच में बहुत कठिन है। मैं जानता हूँतुम सोच रहे होगे कि इसमें क्या कठिनाई है?” शौर्य ने सब की ओर देखते हुए कहा। आज मुझे हमारे महान गुरु प्रथक की वह स्थिति समझ में आ रही है जब उन्होंने हमसे यही बात कही थी और हमें उस समय यह कोई कठिन काम नहीं लग रहा थाहा हा हा...” शौर्य स्वयं की बात पर स्वयं ही हँसने लगे थे।
आज समझ में आ रहा है वो किस कठिनाई में थे उस दिन। जो भी हैयह निर्णय मैं इतनी शीघ्रता में नहीं ले सकता हूँमुझे अभी इस बारे में सोचने के लिए थोड़ा समय लगेगा और इस विषय पर मेरे साथियों के विचार भी जानना मेरे लिए आवश्यक है। परंतु इस चुनाव का इतना महत्व क्यों है यह मैं आप लोगों को अवश्य बताना चाहूँगा।” वह थोड़ा रुके यहाँ पर और फिर कहना प्रारम्भ किया। आप लोग हर प्रकार से योग्य और संपूर्ण योद्धा हैंआप लोगों में तुलना करने का कोई आधार नहीं है और मेरे लिए आप सभी एक समान हैं। परन्तु इसके बनिस्बत अब आप में से किसी एक को ही आगे नेतृत्व का भार उठाना है। धर्मरक्षकों की शक्ति को संगठित रखने के लिए यह अत्यंत आवश्यक है कि कमान किसी एक के हाथ में हो। नेतृत्व होने से आप की शक्ति कभी बिखर नहीं पाएगी और आपका लक्ष्य सदैव एक ही रहेगा। और यह इसलिए भी बहुत आवश्यक है क्योंकि इसके बिना आप लोगों को बहुत से निर्णय लेने में कठिनाई हो सकती है। परन्तु हाँइससे नेतृत्व करने वाले का उत्तरदायित्व कहीं अधिक बढ़ जाता है क्योंकि उसके हर एक उचित या अनुचित कदम का प्रभाव बाकी सब पर भी बराबर पड़ेगा। कठिन परिस्थितियों में उसे अपने साथियों का मार्गदर्शन भी करना होगा और उन्हें हर संकट से सुरक्षित रखना भी उसी का दायित्व होगा।
शौर्य फिर थोड़ा रुके और कहना प्रारम्भ किया। “हाँ, चूँकि अब जब भार बढ़ेगा तो उन्हें संभालने के लिए उसे सबसे अलग एक विशेष शक्ति भी प्राप्त होगी।” यहाँ पर सब के चेहरे पर एक उत्सुकता उभर आई थी। “आवश्यक होने पर बुराई या अधर्म के विरुद्ध इस शक्ति का प्रयोग अंतिम हथियार के रूप में किया जा सकता है। यह शक्ति आप को धर्मरक्षकों के अस्तित्व को सदैव बनाए रखने में सहायक होगी
क्या है यह शक्ति गुरु जी?” मेघ से रहा नहीं गया तो उसने पूछ लिया परन्तु बाकी सब की आँखों में भी यही प्रश्न था
इसके बारे में मैं अभी अधिक कुछ नहीं बता सकता मेघक्योंकि हम भी कुछ वचनों से बँधे हैं। धर्मरक्षक के अलावा किसी को भी इस शक्ति का रहस्य बताना वर्जित है और अभी तक आप लोग धर्मरक्षक बने नहीं हैं। अब अतिशीघ्र आप सभी को धर्मरक्षक की दीक्षा मिल जाएगी, उसके बाद आप सब भी धर्मरक्षक कहलाएंगे और इसी समय यह शक्ति आपमें से ही कोई मुझसे प्राप्त करेगा तब इस शक्ति और इसके उपयोग दोनों के बारे में आप लोग जान जाएंगे। अभी इतना जान लो कि इसी शक्ति के फलस्वरूप से हमने और हम से भी पहले के धर्मरक्षकों ने कई लड़ाइयों का परिणाम बदल दिया था। बहुत प्रभावशाली होने के साथ यह निश्चित ही घातक भी है, इसका वरण करने के लिए धारक को हर प्रकार से मजबूत होना आवश्यक है, बलशाली होने के साथ दृढ़ इच्छा शक्ति और मन पर नियंत्रण होना अत्यंत आवश्यक है। इनमें से किसी भी गुण की कमी होने से इस शक्ति और इसके धारक दोनों के बीच तालमेल बिगड़ सकता है और उसके फिर बहुत से दुष्परिणाम भी हो सकते हैं।
शौर्य कहते जा रहे थे। “धरती पर इस इकलौती शक्ति को एक समय में कोई एक ही धारण कर सकता है। आप में से वह कोई भी हो जिसे हम चुनेइसको संभाल के रखना क्योंकि जो अगर यह शक्ति अनुचित  हाथों में चले जाए तो इसका दुरुपयोग भी हो सकता है। संभावना परन्तु इसकी बहुत थोड़ी है।”
ऐसा क्यों गुरु जी?” इस बार विधुत ने पूछा
 “क्योंकि कोई साधारण मनुष्य तो इसे धारण कर ही नहीं सकताऐसा करने का प्रयास भी उसके प्राण ले सकता है। किसी साधारण मनुष्य का शरीर इस शक्ति को एक क्षण भी सहन नहीं कर सकता है।” शौर्य का जवाब विधुत को अधिक संतुष्ट नहीं कर पाया तो शौर्य उसके पास आकर बोले
विधुत, इस शक्ति को केवल एक शक्तिशाली शरीर ही धारण कर सकता हैजैसे अंतिम सीढ़ी तक पहुँचने के लिए पहले पहली सीढ़ी से आरंभ करना होता है ठीक वैसे ही इस शक्ति को नियंत्रित करने के लिए जो मापदंड निर्धारित हैं या जिन शक्तिशाली तत्वों की उपस्थिति का शरीर में होना आवश्यक है वो सब केवल आप लोगों ने इस शिक्षा में अर्जित किए हैं। एक धर्मरक्षक का शरीर ही बस इस शक्ति को धारण कर सकता है और नियंत्रण में रख सकता है।” विधुत के साथ बाकी सब भी शौर्य की बात को ध्यान से सुन रहे थे
अभी इस विषय पर अधिक सोचने की आवश्यकता नहीं हैजितना सोचोगे उतने ही प्रश्न निकलेंगे जिनका उत्तर देने में मैं अभी असमर्थ हूँ। समय आने पर आपको सब ज्ञात हो जाएगा।” शौर्य की बात पर सब ने सहमति प्रकट की थी
तो फिर अब आप लोग अपनी प्रसन्नता का आनंद उठाइए और मुझे जाने दीजिए।” यह कहकर शौर्य वहाँ से चले गये
क्या हुआ प्रताप तुम्हारा चेहरा क्यों मुरझा गया हैअभी तक तो बड़े खिले-खिले दिखाई दे रहे थे।” शौर्य के जाने के बाद वेग ने प्रताप से पूछा
कुछ भी तो नहीं वेगमुझे भला क्या होगामैं एकदम ठीक हूँबल्कि मैं तो कबसे इस दिन की प्रतीक्षा कर रहा था। इस दुनिया से मिलने की चाह तो जाने कबसे मेरे मन में थी।” प्रताप ने कहा।
“परंतु तुम्हारा चेहरा तो कुछ और ही कह रहा था।” मेघ ने कहा।
वो यह जानकर कि तुमसे पीछा कभी नहीं छूटेगा, तुम्हे आगे भी सदा झेलना पड़ेगा।” प्रताप ने मुंह बनाते हुए कहा
तुम मुझे झेलते होहा हा हा... हम सब तुम्हें झेलते हैंसमझे।” मेघ ने कहा
कुछ भी बोलो, मेरे बिना तुम लोग कुछ भी नहीं हो।”
“यह तुम्हारा भ्रम है।” मेघ ने कहा
चला जाऊँगा किसी दिन तो समझ आएगा तुम्हे कि मेरा तुम सब के बीच क्या महत्व है?”
जाने तो हम तुम्हें कभी देंगे नहीं।” इस बार विधुत ने कहा
वो क्यों भला?”
“तुम्हें झेलने की आदत जो पड़ गई है अब।” मेघ की इस बात पर सब के चेहरों पर एक बार हँसी आ गई परन्तु दुष्यंत शायद कुछ सुन ही नहीं पाया थावह बस अपने में ही कुछ सोच रहा था। सब ने अचानक इस बात को महसूस किया
कहाँ खोए हो दुष्यंत?” वेग ने उसके कंधे पर हाथ रख कर कहा तो वह जैसे नींद से जागा
हाँ... कहीं भी तो नहीं,” वह बोला। “बस गुरु जी ने जो कहा वही सोच रहा था।”
छोड़ो भी अब उस बात को, यह तो एक नया आरंभ है और शीघ्र ही हम इसके आदि भी हो जाएँगे, मुझे विश्वास है।”
हाँ तुम सही कह रहे हो।” कहते हुए सभी आश्रम की बढ़ गये

No comments:

Post a Comment