Friday, 21 August 2015

युगान्धर भूमि - अध्याय 4


युगान्धर-भूमि
ग्रहण की दस्तक





शौर्य के शिष्य सभी एक से बढ़कर एक थे। किंतु जिस प्रकार हाथ की पाँचों अंगुलियाँ एक समान नहीं होती परन्तु उनका सब का महत्व बराबर होता हैं, ठीक वैसे ही ये सब भी कहीं ना कहीं बाकी दूसरों से आगे थे। मेघ धनुर्विद्या में श्रेष्ठ तो प्रताप की एवं उसकी फुर्ती उसे सबसे अलग बनाती थी। विधुत यहाँ पांडवों के भीम की भाँति थाजैसा उसका शरीर वैसा ही बल भी। दुष्यंत को सभी अस्त्र एवं शस्त्र चलाने का अभ्यास बाल्यकाल से ही था जिन पर यहाँ उसने महारत हासिल कर ली थी। उसकी युद्ध की कला का प्रदर्शन सदैव बहुत अच्छा होता था परन्तु वेग भी सदा दुष्यंत के आस पास ही था
आज भी युद्ध का अभ्यास चल रहा था, मैदान में दुष्यंत और वेग आमने-सामने थे। दोनों के शस्त्र बिजली की भाँति एक दूसरे से टकरा रहे थेटक्कर सदा की भाँति बराबर की लग रही थी। दोनों के पास एक दूसरे के वारों का हर जवाब था
आज तो पक्का वेग जीतेगा।” प्रताप पास में खड़े मेघ से कह रहा था
हो ही नहीं सकतादुष्यंत जीतेगा।”
दुष्यंत थक चुका है और वेग उस पर हावी हो रहा हैआज दुष्यंत जीत नहीं पाएगा।” प्रताप ने कहा
थकने तो वेग भी लगा हैध्यान से देखो प्रताप। दुष्यंत पर विजय प्राप्त करना आसान नहीं है बालक।”
सच में दोनों पसीने से नहा चुके थेप्रताप वेग का तो मेघ दुष्यंत का मनोबल बढ़ाने के लिए चिल्ला रहे थे
अभ्यास को केवल अभ्यास की भाँति देखोयह कोई जुए का खेल नहीं है।” विधुत ने कहावह बस सहजता से युद्धाभ्यास देख रहा था परन्तु प्रताप और मेघ सदा की भाँति आँखें गड़ा के बैठे थे
शांत रहो विधुत।” मेघ ने बिना उसकी ओर देखे कहा
बहुत लंबा हो गया है अब परिणाम भी दिखा दो।” प्रताप उतावलेपन से बोल रहा था
हाँ, हाँशाबाश दुष्यंत शाबाशगया, गयाबस जाने वाला है वेगहा हा...”
वेग नहीं हारेगा आज।”
चुपचाप आगे देखो प्रतापअभी पता चल जाएगा कि कौन जीतेगा और कौन हारेगा?
वेग अचानक दुष्यंत पर हावी होने लगादुष्यंत का हथियार उसके हाथ से छूटने ही वाला था परन्तु तभी दुष्यंत के पैरो का वार वेग संभाल ना सका और उसका शरीर दूर पेड़ से जा टकराया। वह धरती पर आ गिरा और फिर उसके उठने से पहले ही दुष्यंत ने उसकी गर्दन से अपना शस्त्र लगा के उसे हार स्वीकारने के लिए बाध्य कर दिया
वो मारा... शाबाश दुष्यंत… देखा प्रतापजीत गया ना दुष्यंत।” मेघ ने प्रताप को चिढ़ाने के लिए कहा
“तुम सच में अद्भुत हो और अद्भुत ही तुम्हारी उर्जा है दुष्यंत, बहुत बढ़िया और सटीक प्रहार थे तुम्हारे।” वेग ने शस्त्र नीचे करते हुए कहा था
तुम भी कम नहीं हो वेग।” दुष्यंत ने उसकी ओर हाथ बढ़ाया, दोनों हाँफ रहे थे... “मुझे तो लगा था कि आज तुम ही जीतोगे।”
तुम पर विजय प्राप्त करना करना कठिन है दुष्यंत। परंतु बाईं ओर की तुम्हारी सुरक्षा में अभी सुधार की आवश्यकता है।”
“मैं ध्यान रखूँगा।” दुष्यंत ने कहा।
क्या कठिन था वेग? अच्छा भला जीता हुआ दाँव हार गये तुम, सदा की भाँति।” प्रताप बीच में बोला
तो क्या हुआ प्रतापयह केवल अभ्यास था कोई युद्ध नहींहार जीत के बारे में इतना विचार क्यों?”
फिर भी तुम इतने कुशल लड़ाके होते हुए भी अंत तक पहुँचते-पहुँचते जाने क्यों पीछे रह जाते हो?” प्रताप हल्का खिजते हुए कह रहा था
अगली बार मैं ही जीतूँगा
हा… हा… देख लेंगे अगली बार भीतू इसके साथ रहेगा तब तक तो यह कभी जीतेगा नहीं।” मेघ ने प्रताप को छेड़ने के लिए कहा
ठहर अभी तुझे बताता हूँ।”
इस अभ्यास पर गुरु शौर्य की आखें भी थीअभ्यास समाप्त होने के साथ वो भी उनके बीच आ पहुंचे थे। उन्हें देखकर सब शांत हो गये
अद्भुततुम दोनों का प्रदर्शन बहुत अद्भुत था।” शौर्य खुश होते हुए कह रहे थे। “प्रतापवेग सही कह रहा है, यहाँ हार या जीत के कोई अर्थ नहीं हैं क्योंकि यह समय तो केवल हमले को समझने का है और यही वो है जो आने वाले समय में अनुभव बनकर तुम्हारे साथ रहेगा। ये दोनों ही अद्वितीय है और मुझे भरोसा है कि जब ये असली युद्ध के मैदान में होंगे तो इन दोनों को ही हराना इनके शत्रु के लिए संभव नहीं होगा।”
जी गुरु जी।” प्रताप ने सहमति से कहा
और हाँकेवल ये दोनों ही नहीं बल्कि मुझे आप सब पर भरोसा हैभविष्य में आप सब शत्रु के लिए अभेद दीवारों की भाँति होंगे” शौर्य ने सब को एक दृष्टि देखा। “क्या ऐसा नहीं है?”
सब ने मुसकुरा के हाँ में सर हिलाया। “हाँ, ऐसा ही है गुरु जी।” विधुत ने कहावह तिरछी आँखों से प्रताप और मेघ को देख रहा था
क्या हुआ प्रताप तुम्हें?” प्रताप और मेघ दोनों जो अब तक झगड़ रहे थे शौर्य के वहाँ आ जाने से एकदम मौन हो गये थे। “मेरा उद्देश्य तुम्हें असहज करने का कतई नहीं था प्रताप। मैं तो बस यूँ ही आ गया थातुम जारी रखो।”
शौर्य फिर वेग की ओर मुड़े। “तुम मेरे साथ आओ वेगमुझे तुमसे कुछ बात करनी है।” शौर्य एक दिशा में बढ़ते हुए बोले तो वेग उनके पीछे चल दिया। उनके जाते ही मेघ और प्रताप फिर से प्रारम्भ हो गये थे।
“अपने वचन के अनुसार अश्वों को नहलाने और सुखी लकड़ियाँ लाने का कार्य आज तुम करोगे।” मेघ ने धीमे स्वर में प्रताप से कहा।
“हाँ ठीक है,” प्रताप ने मुँह बनाते हुए कहा।
आज से पहले भी शौर्य ने कई बार वेग से इस प्रकार बात की थी परंतु आज दुष्यंत को यह थोड़ा विचित्र लगा था, उसने इस पर से ध्यान हटाने का प्रयास किया और अस्तबल की ओर चला गया
“तुम्हें क्या इसी में खुशी मिलती है वेग?” शौर्य ने कहा तो वेग आश्चर्य से उनका चेहरा देखने लगा
ऐसे क्या देख रहे हो वेगक्या तुम समझते हो तुम जो कर रहे हो वह मुझसे छुपा हुआ है?” शौर्य ने रहस्य वाली मुसकुराहट के साथ पूछा और फिर कहा। “वेग मुझे मालूम है तुम जानबूझकर दुष्यंत से हारते हो और यह बात मुझे बहुत पहले से पता है मेरे बच्चे।” वेग निरुत्तर सा खड़ा था शौर्य के आगे
हा हा हामैं तुम्हारा गुरु हूँ वेगजिस वार को तुम आसानी से संभाल सकते हो उसी पर मात खाओगे तो क्या मुझे पता नहीं चलेगा?” वेग अब भी चुप था। “अब इस बात को स्वीकार भी करो वेग।”
हाँ गुरु जी, आपने सही पहचानानहीं जानता क्यों परंतु मुझे अपने इन मित्रों को मात देना अच्छा नहीं लगता। मेरी योग्यता मेरे पास है गुरु जीआवश्यकता होने पर उसका मैं सही उपयोग करूँगा परंतु अगर मेरे यहाँ परास्त होने से दुष्यंत का या किसी का भी मनोबल बढ़ता है तो मैं इसमें ही खुश हूँ।”
तुम्हारी सोच का मैं सम्मान करता हूँ वेग, इसीलिए मैंने आज से पहले कभी तुमसे यह प्रश्न नहीं किया परंतु अब जब समय आ गया है तुम सब से अलग होने का तो तुमसे यह पूछ लेने का जी चाहा… बस।” वेग मुसकुरा दिया
परंतु आपने यह कब जाना गुरु जी?”
उसी दिन जब तुम पहली बार दुष्यंत से पराजित हुए थे।” वेग ने आश्चर्य से शौर्य को देखा। “हाँ वेग मुझे स्मरण है दुष्यंत का पहली बार इस आश्रम में आनावह कितना असहज था पहली बार तुम लोगों के बीच आकरउसे इस जीवन का अभ्यास नहीं था, वह महलों में से जो आया था। मुझे लगा दुष्यंत के लिए यह कठिन होगा परंतु तुम्हारे साथ ने उसे सहारा दिया और शीघ्र ही वह भी तुम में से ही एक बन गया।”
थोड़ा रुक के शौर्य ने फिर कहा तुमने अपने मन की बात मुझसे कही, अब एक बात मैं भी तुम्हें बताना चाहता हूँ।”
कहिए गुरु जी।”
दुष्यंत यहाँ एक योद्धा बनकर कभी नहीं आया था क्योंकि हमने उसे इस शिक्षा के लिए कभी चुना ही नहीं था। हमारे मित्र यानी दुष्यंत के पिता राजा बाहुबल के बार-बार प्रार्थना करने के कारण हमने दुष्यंत को एक बार परखने के लिए सहमति दे दी थी। दुष्यंत का प्रारम्भिक समय उसे स्वयं को प्रमाणित करने के लिए था और अगर वह इस जीवन से तालमेल नहीं कर पाता तो उसका वापस लौटना तय था परंतु तुम लोगों के साथ ने उसे इस शिक्षा के लायक बना दिया।”
वह बहुत ही बहादुर है गुरु जी।”
हाँ और थोड़ा सा गरम भी… आगे भी तुम्हें ही इन सब को संभालना होगा जैसे अभी इनका ध्यान रखते हो।”
ऐसा ही होगा गुरु जी।”
एक बात और, यह बात हमारे दोनों के बीच में ही रहनी चाहिएसमझे?”
वेग...” तभी प्रताप ने दूर से पुकारा
आप निश्चिंत रहिए गुरु जी। मुझे अब आज्ञा दीजिएमुझे जाना होगा।” शौर्य ने मुसकुरा के सहमति दे दी
अभी आया प्रतापदुष्यंत को भी बुलाओ।” वेग ने चिल्ला के उत्तर दिया
आज से पहले किसी के मन में यह विचार भी नहीं आया था कि भविष्य में उन्हीं में से कोई शौर्य का स्थान भी लेगा। और अब साथ में ही इस अद्भुत शक्ति के बारे में जानने के बाद दुष्यंत का एकांत में सोचना अधिक हो गया था। किसको यह शक्ति मिलेगीवह इसकी गणित में उलझने लगा था। उसे कभी वेग इसके लिए उत्तम प्रतीत होता परंतु दूसरे क्षण ही उसका मन चुनाव का आधार तलाशने लगता। युद्ध के मैदान में वेग उसके निकट था परंतु उससे आगे नहीं था। अनुशासन, आज्ञाकारिता और परिश्रम में वह भी वेग के समान ही था फिर वेग के स्थान पर उसे क्यों नहीं चुना जाएअगले क्षण वह सोचता कि वेग उसका बहुत अच्छा मित्र हैउसे वेग के बारे में ऐसा नहीं सोचना चाहिए
दुष्यंत अश्वों को खोल दो अबकहाँ खोए हो?” प्रताप की आवाज से दुष्यंत का ध्यान भंग हुआ
खुलने के साथ ही सारे अश्व घाटी की ओर दौड़ चले और उनके पीछे मेघ, प्रताप, विधुत और वेग भी परंतु दुष्यंत आज उनसे एक अंतराल पर था
*
सब कुछ सहज ही था परंतु पिछले एक-दो दिनों से दुष्यंत के मन में कुछ अशांति व्याप्त थी। उसका ध्यान अपने अभ्यास से अधिक कहीं और भटकने लगा था। आश्रम से दूर झरने के किनारेबहते पानी की धारा में कहीं खोया सा दुष्यंत अपने अतीत में जाने लगा था। झरने का साफ पानी उसे दर्पण सा प्रतीत हो रहा था जिसमें दुष्यंत वो सब कुछ साफ-साफ देख पा रहा था जो कि वो देखना चाहता था
राजा बाहुबल का इकलौता पुत्र दुष्यंत, आम बालकों की भाँति उसे खिलौनों से खेलना कभी नहीं भाया था, इसके विपरीत उसकी रूचि अस्त्र एवं शस्त्र चलाने में कहीं अधिक थी। बहुत कम उम्र में ही दुष्यंत सभी प्रकार के अस्त्र, शस्त्र चलाना सीख चुका था। वह अपने से उम्र और शरीर में कहीं बड़े योद्धाओं के साथ युद्ध कला का अभ्यास करता था। जब वह लड़ता था तो उसे देखकर देखने वालों को आश्चर्य होता था और राजा बाहुबल का सर गर्व से उँचा हो जाता था। मैदान में दुष्यंत का अभ्यास देखने के लिए बाहुबल प्रायः आ जाया करते थे। आज भी बहुत से अधिकारियों के साथ बाहुबल वहाँ मौजूद थे
वाह दुष्यंत वाह, तुमने बहुत ही थोड़े समय में बहुत कुछ सीख लिया है, तुम्हारा प्रदर्शन तो मेरी सोच से कहीं अधिक आश्चर्यजनक था” बाहुबल अपने आसन से उठ खड़े हुए थे। “सही कहा ना मैंने विक्रम?” बाहुबल ने अपने छोटे भाई विक्रम की ओर देखते हुए कहा
“निसंदेह महाराजदुष्यंत की वीरता के कारण पूरे विश्व में एक दिन सूर्यनगरी का नाम होगा।” विक्रम ने गर्व से कहा था। दुष्यंत ने अभी बस बारह वर्ष की आयु पूरी की थी और इतनी कम उम्र में एक साथ तीन योद्धाओं को धूल चटा के विजेता की भाँति वह राजा बाहुबल के सामने खड़ा था
आओ पुत्रमेरे गले लग जाओ।” बाहुबल ने आगे बढ़कर उसे सीने से लगा लिया
बाल्यकाल से ही उसमें योद्धा बनने के सभी गुण उपस्थित थेसाथ ही साथ वह चतुर और अपने पिता राजा बाहुबल का आज्ञाकारी पुत्र भी था। सब कुछ था उसके पास, स्नेह करने वाले पिताइतना बड़ा साम्राज्य, सैकड़ों सेवकसब कुछ बहुत भाता था दुष्यंत को जब वो कभी बाहर निकलता था तो सभी का उसके सामने सर झुकानाउसके रास्ते पर चलने पर सब का हट जानाएक आदेश पर सैकड़ों सेवकों का आ जाना उसे बहुत प्रसन्नचित्त करता था। दुष्यंत का बाल्यकाल बहुत आनंद में व्यतीत हो रहा था और भविष्य के लिए भी वह निश्चित था। उसने सदा यही जाना था कि एक दिन उसे अपने पिता का स्थान प्राप्त होनी है और वह भी अपने पिता की भाँति एक महान राजा के रूप में जाना जाएगा। इसके विपरीत बाहुबल ने दुष्यंत के लिए कुछ और ही सोचा था। जिस प्रकार बाहुबल ने अपना जीवन मानव धर्म को समर्पित कर दिया था उसी प्रकार वे दुष्यंत के जीवन को भी सार्थक बनाना चाहते थे, और इसलिए उन्होंने दुष्यंत के भविष्य के लिए एक निर्णय ले लिया। उन्होंने अपने इकलौते पुत्र को पूरी तरह मानव जाति के कल्याण हेतु समर्पित करने की कामना की थी और इसके लिए सबसे सही रास्ता धर्मरक्षक के रूप में ही था
बाहुबल ने अपने निर्णय को दिशा देने के बारे में सोचा और इसके लिए आवश्यक था महायोद्धा शौर्य से मिलना। बाहुबल ने शौर्य को बुलवाया और उनसे अपने मन की बात कही
महाराज, मैं आपकी सोच का बहुत सम्मान करता हूँ परंतु... मैं आपको अभी किसी भी प्रकार का आश्वासन देने की स्थिति में नहीं हूँ।” शौर्य के जवाब से बाहुबल थोड़ा विचलित से हो गये
परंतु महायोद्धा, क्योंक्या दुष्यंत में कोई कमी बाकी है?” बाहुबल ने पूछा
नहीं महाराज, दुष्यंत बहुत ही वीर बालक है और इसमें कोई संदेह नहीं है परंतु…” शौर्य इतना कहकर कुछ रुके
परंतु क्या महायोद्धा?”
महाराज, क्योंकि किसी भी धर्मरक्षक के चुनाव का सबसे पहला नियम यही है कि इसमें किसी की संस्तुति के लिए कोई स्थान नहीं होता है। दुष्यंत बहुत कुशल है परंतु एक धर्मरक्षक होने के लिए जो गुण आवश्यक हैं वह दुष्यंत में हैं या नहीं, यह हम और आप तय नहीं कर सकते।” शौर्य ने कहा तो बाहुबल थोड़ा चिंतित से हो गये
“तो यह कैसे जाना जाएगा महायोद्धा? आप चाहें तो दुष्यंत की परीक्षा ले सकते हैं। मुझे विश्वास है कि दुष्यंत आपके हर मानदंड पर खरा उतरेगा, आप एक बार दुष्यंत को अवसर तो दीजिए।” बाहुबल अभी भी आशाहीन होने को तैयार नहीं थे
महाराज, धर्मरक्षक के लिए ऐसी कोई चयन प्रक्रिया होती ही नहीं है।”
कोई तो कसौटी होगी महायोद्धा शौर्यकोई तो चयन प्रक्रिया होगी।”
महाराज, जीवन में अपने आप कुछ घटनाएं और परिस्थितियाँ मिलकर अनजाने में ही धर्मरक्षक की परीक्षा लेती हैं जो सोच विचार कर या जानबूझकर संभव नहीं हो सकता है।” शौर्य ने अपनी विवशता बताई
महायोद्धा, कोई तो रास्ता होगादुष्यंत को मानव जाति के हित में समर्पित करने का।” बाहुबल अभी भी विनती कर रहे थे
हैं महाराजकोई एक नहीं बल्कि सहस्त्र रास्ते हैं मानव कल्याण हेतु कुछ करने के लिए। महाराज, केवल धर्मरक्षक बन कर ही मानव जाति के लिए कुछ किया जा सकता है यह कोई आवश्यक नहीं है। क्या आपने अपने जीवन में बिना एक धर्मरक्षक हुए यह सब नहीं किया हैयह मैं नहीं हर कोई जानता है।” शौर्य बाहुबल को समझाने का प्रयास कर रहे थे। “दुष्यंत को महलों में रहने की आदत हैहर समय उसके आस पास सैकड़ों सेवक रहते हैंउसे आदत हो चुकी है हर सुख सुविधा की। जंगल का जीवन अपनाना उसके लिए थोड़ा कठिन होगा परंतु मुझे पूरा भरोसा है कि दुष्यंत आपके स्थान पर आकर आपकी अपेक्षाओं के साथ अन्याय नहीं करेगा।”
महायोद्धा, मैंने अपने जीवन में थोड़ा या बहुत जो भी किया वह आपके सामने कुछ भी नहीं है। मेरी आपसे विनती हैआप बस एक बार दुष्यंत को अपनी परीक्षा में आजमा के देखिए वह आपको निराश नहीं करेगा।” बाहुबल शौर्य को मनाने का हर संभव प्रयास कर रहे थे। “मेरी आपसे विनती है आप इतना शीघ्र कोई निर्णय ना लें। आपको जितना समय चाहिए आप लीजिए परंतु उसे अपनी योग्यता को सिद्ध करने का एक अवसर मिलना चाहिए। मैं आपको वचन देता हूँ कि इन महलों, सेवकों या इन सुख सुविधाओं को मैं दुष्यंत की दुर्बलता नहीं बनने दूंगा। अतिशीघ्र उसे इनके बिना रहना मैं स्वयं सीखा दूंगा।”
महाराज, आप मुझे दुविधा में डाल रहे हैं...” शौर्य भी अपने आप को विचित्र सी स्थिति में महसूस कर रहे थे
अपने आप में कहीं गुम दुष्यंत को पता ही नहीं चला कि कब विधुत उसके पास पहुँच गया था
कहाँ खोए हो दुष्यंतमैं कब से तुम्हें खोजने का प्रयास कर रहा हूँ।” विधुत ने दुष्यंत के कंधे पर हाथ रखते हुए कहा तो अचानक उसकी तंद्रा भंग हुई
विधुत, तुम कब आए?” दुष्यंत ने चौंकते हुए विधुत से पूछा
मैं तो बस अभी ही आया हूँ परंतु बहुत देर से तुम्हें खोजने का प्रयास कर रहा था। तुम यहाँ एकांत में क्या कर रहे हो मित्र?”
कुछ नहीं विधुत, तुम बताओ क्या कोई विशेष बात है जो तुम मुझे ढूंढ रहे थे?” दुष्यंत ने उठते हुए प्रश्न किया
शायद कुछ विशेष ही है क्योंकि गुरु जी ने तुम्हें शीघ्र बुलाने को कहा है। अब बिना विलंब के हमें गुरु जी के पास चलना चाहिए क्योंकि तुम्हें ढूँढने में समय पहले ही व्यर्थ हो चुका है।” विधुत जल्दी में था
“ओह हाँ, मैं तो भूल ही गया था, मुझे तो सिहोट के लिए निकलना है।” दुष्यंत को जैसे कुछ स्मरण हुआ। “चलो जल्दी, मैं भी ना जाने कैसे भूल गया?”
“सिहोट! वो क्यों?”
“गुरु जी ने वहाँ एक कारीगर को कुछ शस्त्र बनाने का काम सौंपा था और उसने आज का समय दिया था। वो शस्त्र लेने के लिए मुझे जाना था।” दोनों साथ में आश्रम की ओर चल पड़े

No comments:

Post a Comment