Friday, 21 August 2015

युगान्धर भूमि - अध्याय 1

युगान्धर-भूमि
ग्रहण की दस्तक



Copyright © 2014 Anant
All Rights Reserved.

This book or any portion thereof may not be reproduced or used in any manner whatsoever without permission except for the use of brief quotations in a book review. This book is a work of fiction. The characters and events portrayed in this book are fictitious. Any similarity to real persons, living or dead is coincidental and not intentional by the authors.



युगांधर-भूमि

जहाँ पाप है वहाँ पुण्य हैजहाँ अंधेरा है वहाँ उजाला हैझूठ है तो सच है और धर्म है तो अधर्म है। कोई भी अवस्था एक दूसरे के बिना पूर्ण नहीं हो सकतीअथवा कुछ भी निरर्थक नहीं होता है। जहाँ एक पहलू बुरा है तो उसका दूसरा पहलू सुखद है। जब से मानव ने इस धरती पर जन्म लिया है तब से अच्छाई और बुराई उसके साथ चल रही हैकभी अच्छाई का पलड़ा भारी होता है तो कभी बुराई मनुष्य पर हावी हो जाती है। अगर प्रेमत्याग और समर्पण अच्छाई की सबसे बड़ी ताकत है तो वहीं बुराई के पास क्रोधईर्ष्या और अहंकार उसके सबसे घातक हथियार हैं।
इतिहास ने समय-समय पर इस बात के प्रमाण दिए हैं कि इन दोनों के संतुलन में ही जीवन को आश्रय मिलता है और जब यह संतुलन बिगड़ता है तो केवल विनाश होता है। अपने स्वार्थ प्राप्ति के लिए जहाँ अधर्मी लोग बुरी अथवा शैतानी शक्तियों के सहारे जीवन के इस संतुलन को बिगाड़ने के लिए हर संभव प्रयत्न करते हैं वहीं इस संतुलन को कायम रखने के लिए भी कुछ लोग निरंतर प्रयासरत रहते हैं। जो अच्छाई की मशाल को थामे हुए बुराई को मिटाने का संकल्प लेते हैं। मानव जाति के विशाल परंतु भूले बिसरे अतीत में ऐसी महान आत्माओं के नाम कहीं-कहीं दर्ज हैं और कहीं ये बिल्कुल लापता हैं। कौन थे ये लोगसमय-समय पर इन्हें अलग-अलग नामों से जाना जाता रहा है। कभी इन्हें रक्षक कहा गया तो कभी संहारककुछ लोगों ने इन्हें अवतार नाम दिया तो कुछ लोगों ने इन्हें योद्धा कहकर पुकारा। यह बस कुछ नाम हैं उन नामों में से जो उन्हें अलग-अलग युगों में मिलते रहे हैं, परन्तु जब-जब इनके जीवन के कठिन संघर्ष की गाथा को सुनाया जाएगाइनके अदम्य साहस और पराक्रम को याद किया जाएगा तो इन्हें क्या कहकर पुकारा जाएगा?
युगांधर,” हाँ, यह इन युग पुरुषों के लिए सार्थक नाम हैक्योंकि ना केवल इतिहास बल्कि आज और आने वाले युग भी इनके ऋणी होंगे। एक समय में इन्होंने हमारे वर्तमान को अपने त्यागबलिदान और निस्वार्थ समर्पण से सिंचा था। ऐसे योद्धाओं को युगांधर कहना ही शायद उनका सच्चा सम्मान होगा। यह गाथा भी इन्हीं लोगों की है जो हम मनुष्यों के अस्तित्व को कायम रखने के लिए अपने प्राणों तक की परवाह नहीं करतेजिनके लिए दूसरों के दर्द और पीड़ा का मोल कहीं अधिक होता है और इसमें उनका कहीं कोई स्वार्थ भी छिपा नहीं होता है। सत्य की रक्षा करते हुए जाने कितने युगांधर मृत्यु को भेंट चढ़ गये परंतु संसार इनके बलिदान को प्रायः भूल जाता है।


अध्याय 1

आबादी से बहुत दूर और घने जंगलों के पार हरे-हरे मैदानों से कुछ उँचाई पर एक आश्रमतापिश्रम। तापी नदी के उद्गम के पास होने से इसको यह नाम मिला है जहाँ गुरु शौर्य अपने शिष्यों को कई वर्षों से शिक्षा दे रहें है। इनके शिष्य हैं मेघविधुतप्रतापदुष्यंत और वेग। परन्तु ये कोई साधारण शिक्षा ग्रहण करने के लिए गुरु शौर्य के पास नहीं हैंइन सभी ने अपना जीवन एक विशेष उद्देश्य को समर्पित किया है। आने वाले समय में मानव धर्म की रक्षा का भार इन्हीं के कंधों पर होगा और तब ये कहलाएंगे धर्मरक्षक।
गुरु शौर्य ने अगली पीढ़ी के धर्मरक्षकों के रूप में इन पाँचों का चुनाव किया है और ये सभी उनकी आकांक्षाओं को पूरा करने में सफल भी हुए हैं। धर्मरक्षक होना क्योंकि अपने आप में एक बहुत बड़ा दायित्व हैइसके लिए हर योद्धा को बहुत सी कठिन परीक्षाओं से गुजरना होता है। तपस्वी की भाँति तप करना होता है और इन सभी को यह सिद्ध करना होता है कि वे हर परिस्थिति में अपने कर्तव्य पथ को पूरी निष्ठा से समर्पित रहेंगे। शौर्य के मार्गदर्शन में इनकी शिक्षा का हर पड़ाव कठिन से कठिन अभ्यास से होकर गुजरा है और उसी के द्वारा इन्होंने सृष्टि के मूल तत्वों से सही तालमेल करना भी सीखा है।
इन पाँचों की दुनिया यहीं तक सीमित है। जब तक कि इनकी शिक्षा पूरी नहीं हो जाती हैइनका घर और इनका परिवार सब कुछ यहीं है। पूरा जंगल इनका घरइनका अभ्यास क्षेत्र और साथ में यही इनके लिए खेल का मैदान भी है। अभ्यास के साथ पूरी श्रद्धा और मित्रों के साथ उनकी मित्रता का भरपूर आनंद लेते हैं ये सब। बाहरी दुनिया से यहाँ का संपर्क बहुत ही कम होता है परंतु गुरु शौर्य इनको बाहर की दुनिया के संपर्क में प्रायः ले जाते हैं क्योंकि यह भी इनकी शिक्षा का हिस्सा है। धर्मरक्षक होने के लिए केवल बलवान और बुद्धिवान होना ही पर्याप्त नहीं हैउनका सामाजिक होना भी उतना ही आवश्यक है। भविष्य में क्योंकि इनको समाज में उपस्थित रहते हुए ही अपने कर्तव्य को निभाना है और इस मन्त्र से यह शिक्षा किसी को भारी भी नहीं लगती है। यहाँ अच्छाई के लिए पाँच नये स्तंभ तैयार हो चुके थे तो वहीं दूसरी ओर बुराई भी अपने लिए रास्ते खोज रही थी।
*
आश्रम से बहुत दूर उदिस्ठा की राजधानी सूर्यनगरी, रात के इस पहर में लगभग सोई हुई थी परन्तु उसकी सीमा पर अभी भी कुछ गतिविधि थी जो गश्ती सिपाहियों की नहीं लग रही थी। रात के अंधेरे में नगर से थोड़ा बाहर वह व्यक्ति बहुत ही व्याकुल हो किसी की प्रतीक्षा कर रहा था। सन्नाटे में कुछ झींगुरों का शोर केवल गूँज रहा थारोशनी अधिक नहीं थी फिर भी तारो की झिलमिलाहट में उस व्यक्ति के काले आवरण के भीतर से राजसी वेशभूषा दिखाई दे रही थी जिससे यह तो स्पष्ट था कि उसका यहाँ अकेले खड़े होना कुछ असामान्य था। उसकी आँखें किसी को ढूँढ रही थी, साथ ही साथ वह अपने चारों और देख कर इस बात की तसल्ली भी कर रहा था कि कोई उसे देख ना रहा हो।
उसके चेहरे पर झल्लाहट बढ़ती जा रही थी कि तभी उसे कुछ दूरी पर एक परछाई अपने समीप आती हुई दिखाई दी। उसने अपने आप को एक वृक्ष की ओट में कर लिया और उस परछाई को छुपकर पहचानने का प्रयत्न करने लगा। काले वस्त्र ओढ़े हुए वह आगंतुक अब बहुत निकट आ चुका थायह वही था जिस की प्रतीक्षा वह राजसी वेशभूषा वाला व्यक्ति कर रहा था। थोड़ा क्रोधित होकर वह उसके सामने आ गया।
क्या तुम्हें तनिक भी अहसास है कि मेरा यहाँ इस समय आना कितना हानिकारक हो सकता हैमेरे लिएतुम्हारे लिए और साथ में तुम्हारे उद्देश्य के लिए भी।” राजसी वेशभूषा वाला वह व्यक्ति क्रोधित हो रहा था। तुम्हें अपनी चिंता नहीं है शायद परन्तु मुझे अपने लिए इस प्रकार के जोखिम उठाना बिल्कुल भी पसंद नहीं हैं।
अभी इस प्रकार चिल्ला कर क्या तुम अपने लिए संकट नहीं बुला रहे हो अवंतीशांत हो जाओअकारण मुझे भी जोखिम से खेलना पसंद नहीं है।” उस आने वाले व्यक्ति की बात से अवंती को अहसास हुआ कि वास्तव में उसका स्वर क्रोध के कारण ऊँचा हो गया थावह थोड़ा झेंप सा गया।
तुम्हारे लिए जो मैं कर सकता था वह मैंने कर दिया है भुजंगआगे का काम अब तुम संभालो। इस प्रकार बार-बार मिलने के लिए बुलाकर क्यों जोखिम को निमंत्रण दे रहे हो?” अवंती आने वाले व्यक्ति पर क्रोधित हो रहा था।
तुम्हारा काम अभी अधूरा है अवंती,” उस व्यक्ति को भी अवंती की बात पर थोड़ा क्रोध आ गया था। किस उद्देश्य की बात कर रहे थे तुम अभीक्या इसमें तुम्हारा स्वार्थ नहींयह मत भूलो कि तुम मेरे या किसी और के लिए यह संकट मोल नहीं ले रहे हो। अगर तुम्हें कुछ प्राप्त करना है तो थोड़ा तो जोखिम तुम्हें भी उठाना होगा।
परन्तु क्यों भुजंगअब जब मैंने वहाँ तुम्हारे प्रवेश की व्यवस्था कर दी है जहाँ तुम्हारे मालिक को बंदी बना कर रखा हैइसके बाद तुम्हें अब मुझसे क्या चाहिएकिस बात की प्रतीक्षा है अब तुम्हेंजैसा कि तुमने कहा था एक बार वहाँ प्रवेश मिलने के बाद भीषण को मुक्त तुम स्वयं करवा लोगे। मेरा काम हुआ फिर व्यर्थ ही मुझे बार-बार संकट में क्यों डाल रहे हो?” अवंती अभी भी नाराजगी से पूछ रहा था।
तुम्हारा काम अभी समाप्त नहीं हुआ है। उस बंदीगृह के अंदर के सुरक्षा घेरे को तो मैं तोड़ सकता हूँ परन्तु वह तिलिस्म जिसके अंदर मालिक को बंदी बना कर डाला गया हैउसका तोड़ क्या है?” भुजंग भी आवेश में आ गया थावह अवंती के समीप आने लगा। तुमने मुझे ऐसा कुछ पहले क्यों नहीं बताया?”
ओ...ओ... देखो वह हमारी बात का हिस्सा नहीं था।” अवंती पीछे हटते हुए बोला।” मेरा काम केवल तुम्हें रास्ता दिखाने का थारही बात वह तिलिस्म तो मुझे लगा यह तुम्हारे लिए कोई जटिल विषय नहीं होगा।
वह तिलिस्म हैकोई बच्चों का खिलौना नहीं है जिसे कोई भी आसानी से तोड़ सके। मुझे सब बताओ उस तिलिस्म के बारे में क्योंकि बिना कुछ जाने हमला करने का अर्थ है सीधे मृत्यु को गले लगाना।” भुजंग ने अवंती को गले से पकड़ लिया था।
देखो मेरी बात सुनोमैं कुछ नहीं जानता इस बारे में। मैं सच कह रहा हूँ मुझे भी बस इतना मालूम है कि भीषण किसी काले जादू या शायद तिलिस्मी घेरे में बंद है परन्तु वह तिलिस्म क्या हैकिसने बनाया है और कैसे बनाया हैइसके बारे मैं कुछ नहीं जानता। इस विषय में मैं तुम्हारी कुछ भी सहायता नहीं कर सकता हूँ।
“तुम सूर्यनगरी के इतने बड़े मंत्री हो और तुम कह रहे हो कि तुम्हें कुछ नहीं पता।” भुजंग ने अपनी पकड़ ढीली कर दी। अगर तुम नहीं जानते तो फिर कौन जानता है?”
देखो यही सच है। भले ही मैं इस राष्ट्र का महामंत्री हूँ परंतु मैं सच कह रहा हूँभीषण के कारावास के बारे में हर बात गुप्त रखी गई है।” अवंती ने अपनी विवशता बताई।
अगर तुम नहीं तो फिर कौन जानता है उस तिलिस्म के बारे में?” अवंती की बात ने भुजंग को विचलित कर दिया था। उस तिलिस्म को कैसे तोड़ा जा सकता है यह कोई तो जानता होगा...
यह तिलिस्म धर्मरक्षकों की निगरानी में बनाया गया था और उनके अलावा राजा बाहुबल ही केवल इस बारे में जानते हैं। अगर तुम चाहो तो उनसे यह रहस्य जानने का प्रयत्न कर सकते हो।” अवंती ने कहा।
तुम अच्छी प्रकार से जानते हो कि उनसे यह जानकारी हासिल करना असंभव है।” भुजंग उसके पास आकर बोलाउसकी आँखें क्रोध से लाल थी। मैं अपने लक्ष्य के इतने निकट होकर और प्रतीक्षा नहीं कर सकता। मुझे उस तिलिस्म का तोड़ हर हाल में चाहिए और जब तक मैं उसे प्राप्त नहीं कर लेता हूँ मैं तुम्हें भी चैन से नहीं बैठने दूंगा।
जब तुम यह जानते हो कि उनसे यह जानना असंभव है फिर मुझसे तुम इस प्रकार की आशा कैसे कर सकते हो?” अवंती भी नाराजगी से बोला। जितना मुझसे बन सकता था वो मैंने तुम्हारे लिए किया हैअब इससे आगे मैं विवश हूँ।
तो क्या यही अंत है हमारे प्रयासों कानहींमैं कदाचित हार नहीं मान सकता।
मेरा यह अर्थ बिल्कुल नहीं था।
एक बात सुन लो अवंतीअपने लक्ष्य के इतने समीप आकर अब मुझे पराजय स्वीकार नहीं। अगर ऐसा हुआ तो मैं तुम्हें...
जरा रुको… हाँ… एक तरीका है,” तभी अवंती को कुछ याद आयाउसकी आँखों में चमक आ गई थी। हाँ एक रास्ता है सब कुछ पता लगाने कावह स्त्रीहाँ वो स्त्री अवश्य हमें कुछ बता सकती है।
कौन स्त्रीजल्दी बताओ मुझे।” भुजंग को भी कुछ आशा दिखी।
“जरा ठहरोतुम कुछ पूछो उससे पहले मैं एक बात साफ कर देना चाहता हूँ कि उसका नाम क्या है और वो कहाँ रहती हैयह मैं नहीं जानतायह तुम्हें स्वयं ही पता लगाना होगा।
तुम जो जानते हो वह बताओ पहले।
देखो एक स्त्री मुझे याद हैजिस दौरान भीषण को कारावास में डाला गया था वह भी थी वहाँ। कोई और नहीं परन्तु वह थी… मुझे विश्वास है वह अवश्य कुछ जानती होगी इस बारे में।
और क्या जानते होबोलो जल्दी।
मैंने बताया ना कि मैं विशेष कुछ नहीं जानता इस बारे मेंहाँ वह आकर्षक थी और थोड़ी विचित्र भी थीइसके अलावा…” अवंती मौन हो गया इतना कहकर।
वाहबहुत- बहुत धन्यवाद तुम्हारी इस सहायता के लिए। तुम कह रहे हो कि मैं किसी दीये के सहारे पूरे संसार में एक स्त्री को खोजूँ जिसका कि मैं नाम तक भी नहीं जानता।
भुजंग, तुम भी कुछ करोमैं भी प्रयास करता रहूँगा।
तुम्हारी यह आधी अधूरी जानकारी…” भुजंग ने चिड़ कर कहा। राजा बाहुबल के मंत्री होकर भी आज तक कुछ नहीं जान पाए तुम। मैं पता लगाने का प्रयास करता हूँ परन्तु तुम आराम से मत बैठनाकुछ भी जानकारी हासिल हो मुझे सूचना कर देना।” अवंती ने हाँ में सर हिलाया।
 राजा बाहुबल के नाई बन जाओ तो शायद मेरे कुछ काम आ सको।” यह कहकर भुजंग फिर से उसी अंधेरे में गुम हो गया जहाँ से निकल कर वो आया था, पीछे खड़ा अवंती उसे जाता हुआ देख रहा था और शायद उसके अंतिम वाक्य के बारे में सोच रहा था। अचानक उसे याद आया कि वो अभी तक वहीं खड़ा है, उसने इधर उधर एक क्षण के लिए देखा और फिर अपने रास्ते की और बढ़ चला

युगान्धर भूमि - अध्याय 2


युगान्धर-भूमि
ग्रहण की दस्तक



अध्याय 2



भोर होने वाली थीसूर्य की किरणों ने क्षितिज में अपनी लाली बिखेर दी थीआश्रम क्योंकि बहुत उँचाई पर हैं इसलिए सुबह की सबसे पहली किरण आश्रम को दस्तक देती हैं। आश्रम से थोड़ी दूर पर भोमी पर्वत श्रृंखलाओं से बहुत सी जल धाराएँ आकर घाटी में झरने की शक्ल में गिरती हैं। इसी घाटी के उपर झरने के उद्गम से कुछ अंतराल पर है यह आश्रम। इस आश्रम तक आने जाने के लिए घाटी के बगल से एक सीधी चढ़ाई है और अगर इस रास्ते उतरते हुए आगे जाएं तो तापी नदी का किनारा दूर तक साथ चलता है।
भोर के हल्के से उजाले में पाँच आकृतियाँ तापी नदी के मद्धिम प्रवाह में खड़ी थीये आकृतियाँ थी वेगदुष्यंतप्रतापमेघ और विधुत कीऔर ये लोग यहाँ नियमित रूप से सूर्य नमस्कार करने के बाद अपनी दिनचर्या की शुरुआत करते हैं। क्योंकि जैसा इनको सिखाया गया हैपूरी सृष्टि की ऊर्जा एवं जीवन का एकमात्र श्रोत यही सूर्य है जिसकी शक्ति के बल पर उनका शरीर कायम है। अपने जीवन आधार को ये सभी इस प्रकार से धन्यवाद कहते हैं। स्नान के साथ सब का सूर्य नमस्कार भी पूरा हो चुका थावो कुछ और देर वहाँ रुककर तैराकी करते परन्तु सुदर्शन की पुकार ने सब का ध्यान अपनी ओर खींच लिया। उन्होंने देखा वह किनारे पर खड़ा कुछ चिल्ला रहा था। वह शायद अभी तक उनके सूर्य नमस्कार के समाप्त होने की प्रतीक्षा कर रहा था।
आप सभी को गुरु जी बुला रहे हैंजल्दी पहुँचिए आप लोग...” वह लगभग चिल्ला के बोल रहा था क्योंकि एक तो नदी का शोर और दुसरा किनारा सभी से बहुत दूर था।
क्या कह रहा है सुदर्शनकुछ सुनाई दे रहा है क्या तुम लोगों को?” वेग ने बाकी सब की ओर देख कर पूछा तो सब ने अपनी गर्दन ना में हिला दी।
चलो बाहर चल कर के देखते हैंइस पर कौन सी प्रलय आन पड़ी है जो यह इतने भोर में अपना सब काम छोड़ कर गले का व्यायाम कर रहा है?” प्रताप बाहर की ओर बढ़ते हुए बोला तो सब उसके साथ बाहर चल दिए।
*
चेहरे पर एक अनोखा सा तेजमजबूत कद काठी और लगभग 60 वर्ष की आयु। आश्रम के मुख्य कक्ष में गुरु शौर्य अपने शिष्यों के सामने बैठे हैं। सभी के चेहरों पर उत्सुकता स्पष्ट झलक रही हैसहज ही था क्योंकि आज अभ्यास के बीच में ही गुरु शौर्य ने सभी को एक साथ बुलाया था।
मुझे यह बताते हुए बहुत प्रसन्नता हो रही है कि आप लोगों ने अपनी शिक्षा लगभग पूरी कर ली है और अब बहुत अतिशीघ्र आप लोग हम धर्मरक्षकों का स्थान लेने वाले हैं।” शौर्य इतना कहकर एक क्षण को चुप हो गये और सभी की आँखों में देखने लगे। अचानक मिली इस सूचना से सभी के चेहरों के भाव बदल से गये थे।
आप लोगों के साथ इतना समय कैसे बीत गया कुछ पता ही नहीं चला। जो भी हैयह समय तो आना ही था… अच्छा अब जो एक बहुत विशेष बात मैं आप सभी को बताना चाहता हूँ वह यह है कि...” शौर्य ने सब के चेहरों के बदलते रंग को देख अपनी बात बीच में रोक दी।
आप सभी को अचानक क्या हुआक्या आप लोग खुश नहीं हैंआप सभी ने इतने वर्ष जो तपस्या की है वह सब इसी दिन के लिए तो थी और आप के चेहरों पर कोई हर्ष या प्रसन्नता भी दिखाई नहीं दे रही है।” शौर्य सब के मन की दशा जानते थे फिर भी उन्होंने बिना प्रकट किए सब को समझाने का यह प्रयास किया था। परंतु शौर्य के इस प्रश्न का उत्तर किसी के पास नहीं था और सभी एक दूसरे का मुंह ताक रहे थे।
नहींऐसा नहीं है गुरु जीहमें भी खुशी है परंतु…” विधुत इतना ही कह पाया।
बस अचानक से यह समाचार… हम में से किसी को यह अंदेशा नहीं था इसीलिए कुछ समझ नहीं आ रहा कि क्या कहें?” वेग ने हँसने का प्रयास करते हुए विधुत की बात को पूरा किया।
तुम्हारी स्थिति मैं समझता हूँ क्योंकि बिल्कुल ऐसी ही परिस्थिति में एक समय मैं और मेरे साथी भी थे। परन्तु भरोसा रखो सब कुछ जल्दी ही सामान्य हो जाएगा।” शौर्य ने कहा परन्तु सब के चेहरे अभी भी पूर्ववत मुरझाए हुए से थे।
एक नया प्रारंभ होने वाला है आप लोगों के जीवन मेंकुछ खुशी दिखनी चाहिए आपके चेहरों पर। इस प्रकार आप लोग अच्छे नहीं दिखते हैं।” शौर्य के इतना कहने पर भी सब के चेहरे वैसे ही थे। चलो बाहर चल कर बात करते हैं।
शौर्य के साथ सभी आश्रम से बाहर खुले में आ गये थे। उन्होंने उगते हुए सूर्य को देखा फिर एक बार पीछे मुड़कर सब की ओर देखा और उस दिशा चल दिए जहाँ से झरने का पूरा प्रवाह दिखता है।
चले आओरुको नहींमेरे साथ आओ…” वो फुर्ती से जा रहे थेकिसी को समझ नहीं आया कि शौर्य उन्हें कहाँ और क्यों ले जा रहे हैंवो उनके साथ चल दिए।
मेरा मन भी थोड़ा दुखी है इस बात से कि अब आप लोगों से दूर होने का समय निकट आ गया है,” शौर्य ने कहना प्रारंभ किया। परन्तु यह तो पहले से तय था सो इस बात से मन को दुखी करने का कोई औचित्य नहीं है। तुम्हें मालूम हैपूरे संसार में केवल आप लोगों को अवसर मिला है अपने जीवन को सार्थक करने कापरमात्मा के द्वारा निर्मित इस सुंदर से संसार को सुरक्षा प्रदान करने का और संपूर्ण जीवन मात्र की सेवा करने का। इस गौरव और इस आनंद को अनुभव करके देखोअच्छा लगेगा।
शौर्य उस किनारे पर आ गये थे जहाँ से झरने का प्रवाह और उपर से गिरते हुए पानी का पूरा फैलाव साफ दिखाई दे रहा था। गिरते हुए पानी से हल्की ओस उठ रही थीदूर पहाड़ी के पीछे से सूर्य ने आकाश पर कदम रख दिए थेमखमली धूप घाटी के दोनों ओर वृक्षों पर बिछ गई थी। यह प्रकृति का एक बहुत ही अद्भुत दृश्य था और भोर में पक्षियों के शोर ने इस दृश्य में संगीत सा भर दिया था। शौर्य ने अपने दोनों हाथों को इस प्रकार से फैलाया जैसे कि वो सूर्य की पूरी रोशनी को समेट रहे हों। उनके चेहरे पर एक आनंद से परिपूर्ण मुस्कुराहट उभर आई थी।
आओ और मेरे साथ इस अहसास को स्पर्श करके देखोक्योंकि हर सवेरा नया और सदा की भाँति ऊर्जावान होता है।” शौर्य ने आँखें बंद कर के कहा।
शौर्य की बात का अनुसरण करते हुए सभी शौर्य के दोनों ओर उस की मुद्रा में खड़े हो गये थे। यह एक बहुत ही जीवंत और स्वस्थ अहसास थायह उनके चेहरों पर आए उस तेज से प्रतीत हो रहा था। सच में आज कुछ नया लग रहा था उन सभी कोएक नई उमंग उन सभी के चेहरों पर खिल गई थी।
कुछ पलो के बाद शौर्य ने अपने हाथों को नीचे किया। अब समझ में आया कि आने वाली सुबह भी बिल्कुल ऐसी ही होगी?” उस नये मनोबल के साथ सब के चेहरों पर मुस्कुराहट तैर रही थी।
हाँ गुरु जीबिल्कुल समझ में आ गया।” विधुत ने कहा तो बाकी सब ने भी उसके साथ हाँ में सर हिलाते हुए अपना समर्थन दिया।
और आप लोग यह क्यों भूलते हैं कि आप लोगों की यह मित्रता और एक दूसरे का साथ तो सदैव यूँ ही रहेगाऐसे मित्र तो भाग्य से मिलते हैं। भाग्यशाली हो आप सभी।” शौर्य की बात पर सभी एक दूसरे को देखने लगेसब के चेहरे पर वो गर्व दिख रहा था जो शौर्य की बातों का ही प्रभाव था।
आप सही कह रहे हैं गुरु जीहम समझ गये।” वेग ने कहा।
हाँअब ठीक है। तुम लोगों का उदास होना मुझे बिल्कुल भी पसंद नहीं है।” शौर्य वापस आश्रम की ओर मुड़ गये थे। अच्छा अब कुछ और भी ऐसा है जो आप लोगों को मालूम होना चाहिए। आप ही में से किसी एक को अब वह दायित्व भी संभालना होगा जो कि अभी तक मैंने उठा रखा था। महान गुरु प्रथक ने जो दायित्व मुझे दिया था वही अब मुझे आगे किसी के हाथों में सौंपना है। यह परन्तु अभी तक हमने निश्चित नहीं किया है कि आप लोगों में से वह कौन होगा। एक शिक्षक होने के नाते मुझे आप सभी पर बहुत गर्व है कि मैंने आप लोगों को चुना। आप सभी ने पूरी निष्ठा और कठिन परिश्रम के साथ अपनी शिक्षा पूरी की है परन्तु…” गुरु शौर्य कुछ देर के लिए चुप होकर सभी को देखने लगे।
परन्तु अब यहाँ आप में से किसी एक को इस दायित्व के लिए चुनना मेरे लिए सच में बहुत कठिन है। मैं जानता हूँतुम सोच रहे होगे कि इसमें क्या कठिनाई है?” शौर्य ने सब की ओर देखते हुए कहा। आज मुझे हमारे महान गुरु प्रथक की वह स्थिति समझ में आ रही है जब उन्होंने हमसे यही बात कही थी और हमें उस समय यह कोई कठिन काम नहीं लग रहा थाहा हा हा...” शौर्य स्वयं की बात पर स्वयं ही हँसने लगे थे।
आज समझ में आ रहा है वो किस कठिनाई में थे उस दिन। जो भी हैयह निर्णय मैं इतनी शीघ्रता में नहीं ले सकता हूँमुझे अभी इस बारे में सोचने के लिए थोड़ा समय लगेगा और इस विषय पर मेरे साथियों के विचार भी जानना मेरे लिए आवश्यक है। परंतु इस चुनाव का इतना महत्व क्यों है यह मैं आप लोगों को अवश्य बताना चाहूँगा।” वह थोड़ा रुके यहाँ पर और फिर कहना प्रारम्भ किया। आप लोग हर प्रकार से योग्य और संपूर्ण योद्धा हैंआप लोगों में तुलना करने का कोई आधार नहीं है और मेरे लिए आप सभी एक समान हैं। परन्तु इसके बनिस्बत अब आप में से किसी एक को ही आगे नेतृत्व का भार उठाना है। धर्मरक्षकों की शक्ति को संगठित रखने के लिए यह अत्यंत आवश्यक है कि कमान किसी एक के हाथ में हो। नेतृत्व होने से आप की शक्ति कभी बिखर नहीं पाएगी और आपका लक्ष्य सदैव एक ही रहेगा। और यह इसलिए भी बहुत आवश्यक है क्योंकि इसके बिना आप लोगों को बहुत से निर्णय लेने में कठिनाई हो सकती है। परन्तु हाँइससे नेतृत्व करने वाले का उत्तरदायित्व कहीं अधिक बढ़ जाता है क्योंकि उसके हर एक उचित या अनुचित कदम का प्रभाव बाकी सब पर भी बराबर पड़ेगा। कठिन परिस्थितियों में उसे अपने साथियों का मार्गदर्शन भी करना होगा और उन्हें हर संकट से सुरक्षित रखना भी उसी का दायित्व होगा।
शौर्य फिर थोड़ा रुके और कहना प्रारम्भ किया। “हाँ, चूँकि अब जब भार बढ़ेगा तो उन्हें संभालने के लिए उसे सबसे अलग एक विशेष शक्ति भी प्राप्त होगी।” यहाँ पर सब के चेहरे पर एक उत्सुकता उभर आई थी। “आवश्यक होने पर बुराई या अधर्म के विरुद्ध इस शक्ति का प्रयोग अंतिम हथियार के रूप में किया जा सकता है। यह शक्ति आप को धर्मरक्षकों के अस्तित्व को सदैव बनाए रखने में सहायक होगी
क्या है यह शक्ति गुरु जी?” मेघ से रहा नहीं गया तो उसने पूछ लिया परन्तु बाकी सब की आँखों में भी यही प्रश्न था
इसके बारे में मैं अभी अधिक कुछ नहीं बता सकता मेघक्योंकि हम भी कुछ वचनों से बँधे हैं। धर्मरक्षक के अलावा किसी को भी इस शक्ति का रहस्य बताना वर्जित है और अभी तक आप लोग धर्मरक्षक बने नहीं हैं। अब अतिशीघ्र आप सभी को धर्मरक्षक की दीक्षा मिल जाएगी, उसके बाद आप सब भी धर्मरक्षक कहलाएंगे और इसी समय यह शक्ति आपमें से ही कोई मुझसे प्राप्त करेगा तब इस शक्ति और इसके उपयोग दोनों के बारे में आप लोग जान जाएंगे। अभी इतना जान लो कि इसी शक्ति के फलस्वरूप से हमने और हम से भी पहले के धर्मरक्षकों ने कई लड़ाइयों का परिणाम बदल दिया था। बहुत प्रभावशाली होने के साथ यह निश्चित ही घातक भी है, इसका वरण करने के लिए धारक को हर प्रकार से मजबूत होना आवश्यक है, बलशाली होने के साथ दृढ़ इच्छा शक्ति और मन पर नियंत्रण होना अत्यंत आवश्यक है। इनमें से किसी भी गुण की कमी होने से इस शक्ति और इसके धारक दोनों के बीच तालमेल बिगड़ सकता है और उसके फिर बहुत से दुष्परिणाम भी हो सकते हैं।
शौर्य कहते जा रहे थे। “धरती पर इस इकलौती शक्ति को एक समय में कोई एक ही धारण कर सकता है। आप में से वह कोई भी हो जिसे हम चुनेइसको संभाल के रखना क्योंकि जो अगर यह शक्ति अनुचित  हाथों में चले जाए तो इसका दुरुपयोग भी हो सकता है। संभावना परन्तु इसकी बहुत थोड़ी है।”
ऐसा क्यों गुरु जी?” इस बार विधुत ने पूछा
 “क्योंकि कोई साधारण मनुष्य तो इसे धारण कर ही नहीं सकताऐसा करने का प्रयास भी उसके प्राण ले सकता है। किसी साधारण मनुष्य का शरीर इस शक्ति को एक क्षण भी सहन नहीं कर सकता है।” शौर्य का जवाब विधुत को अधिक संतुष्ट नहीं कर पाया तो शौर्य उसके पास आकर बोले
विधुत, इस शक्ति को केवल एक शक्तिशाली शरीर ही धारण कर सकता हैजैसे अंतिम सीढ़ी तक पहुँचने के लिए पहले पहली सीढ़ी से आरंभ करना होता है ठीक वैसे ही इस शक्ति को नियंत्रित करने के लिए जो मापदंड निर्धारित हैं या जिन शक्तिशाली तत्वों की उपस्थिति का शरीर में होना आवश्यक है वो सब केवल आप लोगों ने इस शिक्षा में अर्जित किए हैं। एक धर्मरक्षक का शरीर ही बस इस शक्ति को धारण कर सकता है और नियंत्रण में रख सकता है।” विधुत के साथ बाकी सब भी शौर्य की बात को ध्यान से सुन रहे थे
अभी इस विषय पर अधिक सोचने की आवश्यकता नहीं हैजितना सोचोगे उतने ही प्रश्न निकलेंगे जिनका उत्तर देने में मैं अभी असमर्थ हूँ। समय आने पर आपको सब ज्ञात हो जाएगा।” शौर्य की बात पर सब ने सहमति प्रकट की थी
तो फिर अब आप लोग अपनी प्रसन्नता का आनंद उठाइए और मुझे जाने दीजिए।” यह कहकर शौर्य वहाँ से चले गये
क्या हुआ प्रताप तुम्हारा चेहरा क्यों मुरझा गया हैअभी तक तो बड़े खिले-खिले दिखाई दे रहे थे।” शौर्य के जाने के बाद वेग ने प्रताप से पूछा
कुछ भी तो नहीं वेगमुझे भला क्या होगामैं एकदम ठीक हूँबल्कि मैं तो कबसे इस दिन की प्रतीक्षा कर रहा था। इस दुनिया से मिलने की चाह तो जाने कबसे मेरे मन में थी।” प्रताप ने कहा।
“परंतु तुम्हारा चेहरा तो कुछ और ही कह रहा था।” मेघ ने कहा।
वो यह जानकर कि तुमसे पीछा कभी नहीं छूटेगा, तुम्हे आगे भी सदा झेलना पड़ेगा।” प्रताप ने मुंह बनाते हुए कहा
तुम मुझे झेलते होहा हा हा... हम सब तुम्हें झेलते हैंसमझे।” मेघ ने कहा
कुछ भी बोलो, मेरे बिना तुम लोग कुछ भी नहीं हो।”
“यह तुम्हारा भ्रम है।” मेघ ने कहा
चला जाऊँगा किसी दिन तो समझ आएगा तुम्हे कि मेरा तुम सब के बीच क्या महत्व है?”
जाने तो हम तुम्हें कभी देंगे नहीं।” इस बार विधुत ने कहा
वो क्यों भला?”
“तुम्हें झेलने की आदत जो पड़ गई है अब।” मेघ की इस बात पर सब के चेहरों पर एक बार हँसी आ गई परन्तु दुष्यंत शायद कुछ सुन ही नहीं पाया थावह बस अपने में ही कुछ सोच रहा था। सब ने अचानक इस बात को महसूस किया
कहाँ खोए हो दुष्यंत?” वेग ने उसके कंधे पर हाथ रख कर कहा तो वह जैसे नींद से जागा
हाँ... कहीं भी तो नहीं,” वह बोला। “बस गुरु जी ने जो कहा वही सोच रहा था।”
छोड़ो भी अब उस बात को, यह तो एक नया आरंभ है और शीघ्र ही हम इसके आदि भी हो जाएँगे, मुझे विश्वास है।”
हाँ तुम सही कह रहे हो।” कहते हुए सभी आश्रम की बढ़ गये

युगान्धर भूमि - अध्याय 3


युगान्धर-भूमि
ग्रहण की दस्तक


अध्याय 3


निशिकन्ड़क नगर, त्रिशला राष्ट्र की पश्चिमी सीमा के निकट यह नगर व्यापार के दृष्टि से बहुत अच्छा स्थान है। अनुकूल भौगोलिक परिस्थिति और सुगम रास्तों के कारण से यह कई देशों के लिए व्यापार का एक केंद्र है। आस पास के छोटे कस्बे भी अपनी आवश्यकताओं के लिए इसी नगर पर निर्भर रहते हैं। यहाँ का हाट सदा भीड़ से भरा रहता है। भीड़ में ही आज कुछ सिपाही भी शामिल थे और उन सभी की दृष्टि कुछ महिलाओं पर थी जो उन सिपाहियों की मंशा से अंजान अपने काम में व्यस्त थी। और हाट के बाहर
श्रीमान, अपना काम कीजिए परन्तु सावधानी सेभीड़ में मुझे किसी प्रकार का बवाल नहीं चाहिए।” निशिकन्ड़क का नगरपाल था यह, जो थोड़ा सा चिंतित भी था
आप निश्चिंत रहिए महोदयहम यहाँ उसे छूएंगे भी नहीं।” उस सेना नायक ने आश्वासन दिया जो शायद त्रिशला राष्ट्र का नहीं था
और हाँ, काम पूरा करके आप त्रिशला राष्ट्र की सीमा से शीघ्र ही बाहर भी हो जाइए। किसी ने आप लोगों को पहचान लिया तो मेरी नौकरी संकट में पड़ जाएगी।”
ऐसा ही होगा, हम आपको किसी भी प्रकार का कष्ट नहीं होने देंगे। आप राशी गिन लीजिए कहीं कम तो नहीं है?”
“जोखिम को देखते हुए तो कम ही है।”
“भरोशा रखिए, अगर इनमें से कोई हमारे काम की निकली तो जितना आपने सोचा नहीं उससे भी कहीं अधिक मिलेगा आपको।” कहकर वह अधिकारी अपने सिपाही की ओर मुड़ा। कितनी हैं?”
“छः या सात हैं श्रीमान।” सिपाही ने उत्तर दिया
“कोई संदेह उन्हे अभी तक?”
“नहीं श्रीमान, थोड़ा भी नहीं।”
बहुत बढ़िया।” वह सेना नायक उस नगरपाल की ओर मुड़ा। “श्रीमान, सब कुछ हमारी योजना के अनुसार चल रहा हैआप निश्चिंत हो जाइए। आप बस उसका ध्यान रखना जो मैंने आपसे कहा था।”
मुझे संकेत दे दीजिएगामेरे सिपाही तैयार हैं।”
“धन्यवाद श्रीमान।” कहकर वह अपने सिपाहियों की ओर बढ़ गया जो कुछ दूर खड़े थे। “अवसर हाथ से जाना नहीं चाहिए,” अब वह सब को समझा रहा था। “जैसे ही कोई एक बाकियों से अलग हो तुरंत दबोच लेना हैपरन्तु बाकियों को थोड़ा भी पता नहीं चलना चाहिए अन्यथा वो छः- सात होकर भी हम पर भारी पड़ सकती हैं समझ गये?” सभी ने हाँ में सर हिलाया
जब्बार कहाँ है?” सेना नायक ने पूछा
मैं यहाँ हूँ श्रीमान।” जब्बार बोला जो अभी वहाँ पहुँचा था
...फो... तुम कहीं से भी भिखारी प्रतीत नहीं हो रहे हो, भिखारियों के वस्त्र इतने साफ सुथरे नहीं होते मूर्ख। देखने से ही लग रहा है कि तुमने जानबूझकर इन्हें फाड़ा है।”
मुझे यहाँ पुराने वस्त्र कहीं नहीं मिले श्रीमान।”
तो नंगे भिखारी बन जाना था, उतारो इसके वस्त्र।” सेना नायक ने झुंझलाकर दूसरे सिपाहियों से कहा। “और इसको जितना भद्दा और कुरूप बना सकते हो बनाओ।”
चलो।” सिपाहियों को थोड़ी हँसी आ गईवो उसे अपने साथ ले गये
थोड़ी देर में एक और सिपाही दौड़ कर वहाँ पहुँचा। “श्रीमान, वो आ रही हैं।
तैयार हो जाओ सभी, अपना-अपना स्थान ले लो।” कहने के साथ सभी फुर्ती से गति में आ गये। “तुम लोग मेरे संकेत की प्रतीक्षा करना, मेरा संकेत मिलते ही उसे उठा लेना।” चार-पाँच सिपाहियों को वह सेना नायक अलग से निर्देश दे रहा था जो कि आम नागरिकों के भेस में थे
कुछ देर में ही वो महिलाएँ वहाँ आती हुई दिखाई देने लगी थी, रास्ते पर थोड़े कम ही लोग थे क्योंकि नगरपाल ने वह रास्ता कुछ देर के लिए बंद करवा दिया था ताकि उसके इन मित्रों को अपना उद्देश्य पूरा करने में आसानी हो। उस भिखारी बने सिपाही ने भी रास्ते पर आकर अपना स्थान ले लिया था, उसके अधनंगे शरीर से आती दुर्गंध से पता चल रहा था कि उसे किसी तबेले में ले जाकर तैयार किया गया था। महिलाओं के कुछ आगे आने पर एक हाथ गाड़ी वाला व्यक्ति भी उनके पीछे कुछ अंतराल पर चलने लगा। सभी महिलाओं के हाथों में कुछ ना कुछ सामान था जिसे वो वहाँ खड़ी एक बग्घी की ओर लेकर जा रही थी। वो सभी उस भिखारी के सामने से होकर निकली परन्तु जैसे ही सबसे पीछे वाली महिला उसके पास पहुँचीवह एकाएक उसके सामने आ गया। उसके यूँ सामने आ जाने से और उस दुर्गंध से जो उसके शरीर से आ रही थीउस महिला को रुक जाना पड़ा। वह एक कदम पीछे हट गई
माई, खाने को कुछ दे दो… दो दिन से भूखा हूँ माई…” वो दुर्बलता से लड़खड़ाने का अभिनय कर रहा था
हाँ, हाँ... दूर रहो बाबा... मेरे पास कुछ नहीं है अभी खाने को।” वह पीछे हटते हुए बोली
माई, कुछ दे दो… भगवान तुम्हें सुखी रखेगा।” उसने रास्ता बदलने का प्रयास किया परन्तु वह बार-बार उसके सामने आ जा रहा था
मेरे पास कुछ नहीं है… सच…” वह उसको पार नहीं कर पा रही थी। “विभा...” उसने आगे जा चुकी अन्य महिलाओं को सहयता के लिए पुकारा, विभा ने पलट कर देखा ही था कि तभी सामने से कुछ शोर सुनाई देने लगाठीक वहाँ से जहाँ उनकी बग्घी खड़ी हुई थी।
अरे बाबा, तुम किसी और से क्यों नहीं मांगतेकहा ना मेरे पास कुछ नहीं है।” उसे अब गुस्सा आने लगा था। “मेरा रास्ता छोड़ोजाने दो मुझे।”
दूसरी ओर, बग्घी के पास एकाएक उठे उस शोर के कारण को समझने के लिए सभी घटनास्थल की ओर देखने लगे। ठीक इसी समय उस सेना नायक का संकेत पाकर साधारण वेश वाले सिपाही उस अकेली महिला की ओर बढ़े। भिखारी से उलझी वह महिला अपने पीछे आ चुके उन तीन सिपाहियों से बिल्कुल अंजान थी। अचानक दो सिपाहियों ने उसकी बाजुओं को मजबूती से पकड़ लिया। वह कुछ समझ पाती उससे पहले ही तीसरे सिपाही ने उसके चेहरे पर कोई वस्त्र लगाकर उसका नाक मुंह बंद कर दिया। उस वस्त्र में कुछ ऐसा था जिससे वह एक क्षण में मूर्छित हो गई
दूसरी ओरवहाँ वह किसी के झगड़ने का शोर था। जो कुछ राहगीर वहाँ मौजूद थे वो भी दौड़कर वहाँ जा चुके थे। ऐसे में उस भिखारी और उस महिला पर किसी की दृष्टि नहीं थी। सही समय पर वह हाथ गाड़ी वाला व्यक्ति उनके पास पहुँच गयासिपाहियों ने इधर उधर देखा और जल्दी से उस महिला को उसके समान के साथ उस हाथ गाड़ी में डाल दिया। भिखारी ने भी इस पर्यन्त गाड़ी में पहले से रखा साफ कुरता और एक पगड़ी पहन ली। उस महिला को वस्त्र से ढक कर वह व्यक्ति अपनी राह चलने लगा और बाकी सिपाही उस दिशा की ओर दौड़ कर गये जहाँ बाकी राहगीर चले गये थे
भीड़ के पीछे वो महिलाएँ जब तक वहाँ पहुँची जहाँ शोर प्रारम्भ हुआ था, तब तक झगड़ा समाप्त हो चुका था क्योंकि नगरपाल के आदेश पर उन दो लोगों को हिरासत में ले लिया गया था जो वहाँ उत्पात मचा रहे थे।
पीछे हटो सभी… सब ठीक हैकुछ नहीं हुआ।” भीड़ को हटाने के लिए सिपाही यह कहते हुए आगे बढ़े
विभा को याद आया की उनकी एक साथिन पीछे रह गई हैउसने पीछे मुड़ के देखा परन्तु वहाँ खुला रास्ता था जिसपर कोई नहीं था। उसने चारों दिशा में दृष्टि दौड़ाई परन्तु वह उसे दिखी नहीं। नगरपाल देख रहा था उस मूर्छित महिला को जिसे वो लोग सब के बगल से लेकर जा रहे थे, उसका हृदय धड़कने लगा क्योंकि अब बाकी महिलाओं को भी उनकी एक साथिन के लापता होने का भान होने लगा था
कहाँ गई सुगंधिकाअभी-अभी तो यहीं थी।” विभा ने चौंक कर कहा
आश्चर्य का कारण यह भी था कि अधिकाधिक चालीस कदम चलने के समय मात्र में वह वहाँ से नदारद थीजबकि वापस पीछे दो सौ कदमों की दूरी तक गिनती के दो चार लोग दिखाई दे रहे थे और सुगंधिका वहाँ उनमें नहीं थी
वह हमारे पीछे नहीं थी क्या?” एक दूसरी महिला ने पूछा
बिल्कुल हमारे पीछे थी। अभी दो क्षण पहले उस भिखारी के पास… अरे वह भिखारी...” वह दुबारा चौंक गई। “वह भिखारी भी तो नहीं है यहाँ।”
तुम घबरा क्यों रही होयहीं कहीं चली गई होगी।”
“इतनी शीघ्रता से?”
तुम्हें पता हैहम जा सकती हैं कहीं भी, इतनी शीघ्रता से।”
यूँ सब के बीच में से नहीं परन्तु… और वह भिखारीवह कहाँ गया?” विभा ने पूछा
तमाशा देखने वालों के साथ चला गया होगाहमारा ध्यान भी तो यहाँ नहीं था।”
तमाशा देखने वालों में वह भिखारी नहीं है। वह मरियल भी इतनी जल्दी कहीं भाग गयाहैं ना?”
तो तुम कहना चाहती हो कि दो क्षण में धरती फटी और सुगंधिका उस भिखारी को गोद में लेकर उसमें कूद गईउसके बाद धरती फिर से वैसे ही हो गई?
नहीं, परन्तु...”
चलो सभीवह पहुँच जाएगी।” वह दूसरी महिला यह कहते हुए आगे बढ़ गई।
मगर...” विभा ने कुछ कहना चाहा परन्तु उसे अनसुना कर सब चल दी वहाँ से
विभा जानती थी कि धरती उसे नहीं निगली है परन्तु बाकियों की सोच को झुठलाने के लिए उसके पास कोई उत्तर भी नहीं था। उसकी दृष्टि अब भी चारों ओर घूम रही थी किसी उत्तर के लिए। दूर जाते हुए उस हाथ गाड़ी वाले व्यक्ति को विभा ने देखा था परन्तु उसमें उसे थोड़ा भी कुछ असामान्य नहीं लगा था
चलो अब, वह आ जाएगी उसकी चिंता करने की आवश्यकता नहीं है।” बाकी सब निश्चिंत होकर रथ तक पहुँच गई थी और अपना सामान उसमें रखने लगी थीविभा भी सर खुजलाते हुए उनके पीछे चल दी
बिना किसी को संदेह हुए यहाँ एक महिला का अपहरण हो चुका था। उस गाड़ी वाले के आँखो से ओझल होने के पश्चात ही नगरपाल और उस अधिकारी के हृदयों की गति सामान्य हो पाई थी। एक दूसरे को आँखो ही आँखो में बधाई दे रहे थे दोनों

युगान्धर भूमि - अध्याय 4


युगान्धर-भूमि
ग्रहण की दस्तक





शौर्य के शिष्य सभी एक से बढ़कर एक थे। किंतु जिस प्रकार हाथ की पाँचों अंगुलियाँ एक समान नहीं होती परन्तु उनका सब का महत्व बराबर होता हैं, ठीक वैसे ही ये सब भी कहीं ना कहीं बाकी दूसरों से आगे थे। मेघ धनुर्विद्या में श्रेष्ठ तो प्रताप की एवं उसकी फुर्ती उसे सबसे अलग बनाती थी। विधुत यहाँ पांडवों के भीम की भाँति थाजैसा उसका शरीर वैसा ही बल भी। दुष्यंत को सभी अस्त्र एवं शस्त्र चलाने का अभ्यास बाल्यकाल से ही था जिन पर यहाँ उसने महारत हासिल कर ली थी। उसकी युद्ध की कला का प्रदर्शन सदैव बहुत अच्छा होता था परन्तु वेग भी सदा दुष्यंत के आस पास ही था
आज भी युद्ध का अभ्यास चल रहा था, मैदान में दुष्यंत और वेग आमने-सामने थे। दोनों के शस्त्र बिजली की भाँति एक दूसरे से टकरा रहे थेटक्कर सदा की भाँति बराबर की लग रही थी। दोनों के पास एक दूसरे के वारों का हर जवाब था
आज तो पक्का वेग जीतेगा।” प्रताप पास में खड़े मेघ से कह रहा था
हो ही नहीं सकतादुष्यंत जीतेगा।”
दुष्यंत थक चुका है और वेग उस पर हावी हो रहा हैआज दुष्यंत जीत नहीं पाएगा।” प्रताप ने कहा
थकने तो वेग भी लगा हैध्यान से देखो प्रताप। दुष्यंत पर विजय प्राप्त करना आसान नहीं है बालक।”
सच में दोनों पसीने से नहा चुके थेप्रताप वेग का तो मेघ दुष्यंत का मनोबल बढ़ाने के लिए चिल्ला रहे थे
अभ्यास को केवल अभ्यास की भाँति देखोयह कोई जुए का खेल नहीं है।” विधुत ने कहावह बस सहजता से युद्धाभ्यास देख रहा था परन्तु प्रताप और मेघ सदा की भाँति आँखें गड़ा के बैठे थे
शांत रहो विधुत।” मेघ ने बिना उसकी ओर देखे कहा
बहुत लंबा हो गया है अब परिणाम भी दिखा दो।” प्रताप उतावलेपन से बोल रहा था
हाँ, हाँशाबाश दुष्यंत शाबाशगया, गयाबस जाने वाला है वेगहा हा...”
वेग नहीं हारेगा आज।”
चुपचाप आगे देखो प्रतापअभी पता चल जाएगा कि कौन जीतेगा और कौन हारेगा?
वेग अचानक दुष्यंत पर हावी होने लगादुष्यंत का हथियार उसके हाथ से छूटने ही वाला था परन्तु तभी दुष्यंत के पैरो का वार वेग संभाल ना सका और उसका शरीर दूर पेड़ से जा टकराया। वह धरती पर आ गिरा और फिर उसके उठने से पहले ही दुष्यंत ने उसकी गर्दन से अपना शस्त्र लगा के उसे हार स्वीकारने के लिए बाध्य कर दिया
वो मारा... शाबाश दुष्यंत… देखा प्रतापजीत गया ना दुष्यंत।” मेघ ने प्रताप को चिढ़ाने के लिए कहा
“तुम सच में अद्भुत हो और अद्भुत ही तुम्हारी उर्जा है दुष्यंत, बहुत बढ़िया और सटीक प्रहार थे तुम्हारे।” वेग ने शस्त्र नीचे करते हुए कहा था
तुम भी कम नहीं हो वेग।” दुष्यंत ने उसकी ओर हाथ बढ़ाया, दोनों हाँफ रहे थे... “मुझे तो लगा था कि आज तुम ही जीतोगे।”
तुम पर विजय प्राप्त करना करना कठिन है दुष्यंत। परंतु बाईं ओर की तुम्हारी सुरक्षा में अभी सुधार की आवश्यकता है।”
“मैं ध्यान रखूँगा।” दुष्यंत ने कहा।
क्या कठिन था वेग? अच्छा भला जीता हुआ दाँव हार गये तुम, सदा की भाँति।” प्रताप बीच में बोला
तो क्या हुआ प्रतापयह केवल अभ्यास था कोई युद्ध नहींहार जीत के बारे में इतना विचार क्यों?”
फिर भी तुम इतने कुशल लड़ाके होते हुए भी अंत तक पहुँचते-पहुँचते जाने क्यों पीछे रह जाते हो?” प्रताप हल्का खिजते हुए कह रहा था
अगली बार मैं ही जीतूँगा
हा… हा… देख लेंगे अगली बार भीतू इसके साथ रहेगा तब तक तो यह कभी जीतेगा नहीं।” मेघ ने प्रताप को छेड़ने के लिए कहा
ठहर अभी तुझे बताता हूँ।”
इस अभ्यास पर गुरु शौर्य की आखें भी थीअभ्यास समाप्त होने के साथ वो भी उनके बीच आ पहुंचे थे। उन्हें देखकर सब शांत हो गये
अद्भुततुम दोनों का प्रदर्शन बहुत अद्भुत था।” शौर्य खुश होते हुए कह रहे थे। “प्रतापवेग सही कह रहा है, यहाँ हार या जीत के कोई अर्थ नहीं हैं क्योंकि यह समय तो केवल हमले को समझने का है और यही वो है जो आने वाले समय में अनुभव बनकर तुम्हारे साथ रहेगा। ये दोनों ही अद्वितीय है और मुझे भरोसा है कि जब ये असली युद्ध के मैदान में होंगे तो इन दोनों को ही हराना इनके शत्रु के लिए संभव नहीं होगा।”
जी गुरु जी।” प्रताप ने सहमति से कहा
और हाँकेवल ये दोनों ही नहीं बल्कि मुझे आप सब पर भरोसा हैभविष्य में आप सब शत्रु के लिए अभेद दीवारों की भाँति होंगे” शौर्य ने सब को एक दृष्टि देखा। “क्या ऐसा नहीं है?”
सब ने मुसकुरा के हाँ में सर हिलाया। “हाँ, ऐसा ही है गुरु जी।” विधुत ने कहावह तिरछी आँखों से प्रताप और मेघ को देख रहा था
क्या हुआ प्रताप तुम्हें?” प्रताप और मेघ दोनों जो अब तक झगड़ रहे थे शौर्य के वहाँ आ जाने से एकदम मौन हो गये थे। “मेरा उद्देश्य तुम्हें असहज करने का कतई नहीं था प्रताप। मैं तो बस यूँ ही आ गया थातुम जारी रखो।”
शौर्य फिर वेग की ओर मुड़े। “तुम मेरे साथ आओ वेगमुझे तुमसे कुछ बात करनी है।” शौर्य एक दिशा में बढ़ते हुए बोले तो वेग उनके पीछे चल दिया। उनके जाते ही मेघ और प्रताप फिर से प्रारम्भ हो गये थे।
“अपने वचन के अनुसार अश्वों को नहलाने और सुखी लकड़ियाँ लाने का कार्य आज तुम करोगे।” मेघ ने धीमे स्वर में प्रताप से कहा।
“हाँ ठीक है,” प्रताप ने मुँह बनाते हुए कहा।
आज से पहले भी शौर्य ने कई बार वेग से इस प्रकार बात की थी परंतु आज दुष्यंत को यह थोड़ा विचित्र लगा था, उसने इस पर से ध्यान हटाने का प्रयास किया और अस्तबल की ओर चला गया
“तुम्हें क्या इसी में खुशी मिलती है वेग?” शौर्य ने कहा तो वेग आश्चर्य से उनका चेहरा देखने लगा
ऐसे क्या देख रहे हो वेगक्या तुम समझते हो तुम जो कर रहे हो वह मुझसे छुपा हुआ है?” शौर्य ने रहस्य वाली मुसकुराहट के साथ पूछा और फिर कहा। “वेग मुझे मालूम है तुम जानबूझकर दुष्यंत से हारते हो और यह बात मुझे बहुत पहले से पता है मेरे बच्चे।” वेग निरुत्तर सा खड़ा था शौर्य के आगे
हा हा हामैं तुम्हारा गुरु हूँ वेगजिस वार को तुम आसानी से संभाल सकते हो उसी पर मात खाओगे तो क्या मुझे पता नहीं चलेगा?” वेग अब भी चुप था। “अब इस बात को स्वीकार भी करो वेग।”
हाँ गुरु जी, आपने सही पहचानानहीं जानता क्यों परंतु मुझे अपने इन मित्रों को मात देना अच्छा नहीं लगता। मेरी योग्यता मेरे पास है गुरु जीआवश्यकता होने पर उसका मैं सही उपयोग करूँगा परंतु अगर मेरे यहाँ परास्त होने से दुष्यंत का या किसी का भी मनोबल बढ़ता है तो मैं इसमें ही खुश हूँ।”
तुम्हारी सोच का मैं सम्मान करता हूँ वेग, इसीलिए मैंने आज से पहले कभी तुमसे यह प्रश्न नहीं किया परंतु अब जब समय आ गया है तुम सब से अलग होने का तो तुमसे यह पूछ लेने का जी चाहा… बस।” वेग मुसकुरा दिया
परंतु आपने यह कब जाना गुरु जी?”
उसी दिन जब तुम पहली बार दुष्यंत से पराजित हुए थे।” वेग ने आश्चर्य से शौर्य को देखा। “हाँ वेग मुझे स्मरण है दुष्यंत का पहली बार इस आश्रम में आनावह कितना असहज था पहली बार तुम लोगों के बीच आकरउसे इस जीवन का अभ्यास नहीं था, वह महलों में से जो आया था। मुझे लगा दुष्यंत के लिए यह कठिन होगा परंतु तुम्हारे साथ ने उसे सहारा दिया और शीघ्र ही वह भी तुम में से ही एक बन गया।”
थोड़ा रुक के शौर्य ने फिर कहा तुमने अपने मन की बात मुझसे कही, अब एक बात मैं भी तुम्हें बताना चाहता हूँ।”
कहिए गुरु जी।”
दुष्यंत यहाँ एक योद्धा बनकर कभी नहीं आया था क्योंकि हमने उसे इस शिक्षा के लिए कभी चुना ही नहीं था। हमारे मित्र यानी दुष्यंत के पिता राजा बाहुबल के बार-बार प्रार्थना करने के कारण हमने दुष्यंत को एक बार परखने के लिए सहमति दे दी थी। दुष्यंत का प्रारम्भिक समय उसे स्वयं को प्रमाणित करने के लिए था और अगर वह इस जीवन से तालमेल नहीं कर पाता तो उसका वापस लौटना तय था परंतु तुम लोगों के साथ ने उसे इस शिक्षा के लायक बना दिया।”
वह बहुत ही बहादुर है गुरु जी।”
हाँ और थोड़ा सा गरम भी… आगे भी तुम्हें ही इन सब को संभालना होगा जैसे अभी इनका ध्यान रखते हो।”
ऐसा ही होगा गुरु जी।”
एक बात और, यह बात हमारे दोनों के बीच में ही रहनी चाहिएसमझे?”
वेग...” तभी प्रताप ने दूर से पुकारा
आप निश्चिंत रहिए गुरु जी। मुझे अब आज्ञा दीजिएमुझे जाना होगा।” शौर्य ने मुसकुरा के सहमति दे दी
अभी आया प्रतापदुष्यंत को भी बुलाओ।” वेग ने चिल्ला के उत्तर दिया
आज से पहले किसी के मन में यह विचार भी नहीं आया था कि भविष्य में उन्हीं में से कोई शौर्य का स्थान भी लेगा। और अब साथ में ही इस अद्भुत शक्ति के बारे में जानने के बाद दुष्यंत का एकांत में सोचना अधिक हो गया था। किसको यह शक्ति मिलेगीवह इसकी गणित में उलझने लगा था। उसे कभी वेग इसके लिए उत्तम प्रतीत होता परंतु दूसरे क्षण ही उसका मन चुनाव का आधार तलाशने लगता। युद्ध के मैदान में वेग उसके निकट था परंतु उससे आगे नहीं था। अनुशासन, आज्ञाकारिता और परिश्रम में वह भी वेग के समान ही था फिर वेग के स्थान पर उसे क्यों नहीं चुना जाएअगले क्षण वह सोचता कि वेग उसका बहुत अच्छा मित्र हैउसे वेग के बारे में ऐसा नहीं सोचना चाहिए
दुष्यंत अश्वों को खोल दो अबकहाँ खोए हो?” प्रताप की आवाज से दुष्यंत का ध्यान भंग हुआ
खुलने के साथ ही सारे अश्व घाटी की ओर दौड़ चले और उनके पीछे मेघ, प्रताप, विधुत और वेग भी परंतु दुष्यंत आज उनसे एक अंतराल पर था
*
सब कुछ सहज ही था परंतु पिछले एक-दो दिनों से दुष्यंत के मन में कुछ अशांति व्याप्त थी। उसका ध्यान अपने अभ्यास से अधिक कहीं और भटकने लगा था। आश्रम से दूर झरने के किनारेबहते पानी की धारा में कहीं खोया सा दुष्यंत अपने अतीत में जाने लगा था। झरने का साफ पानी उसे दर्पण सा प्रतीत हो रहा था जिसमें दुष्यंत वो सब कुछ साफ-साफ देख पा रहा था जो कि वो देखना चाहता था
राजा बाहुबल का इकलौता पुत्र दुष्यंत, आम बालकों की भाँति उसे खिलौनों से खेलना कभी नहीं भाया था, इसके विपरीत उसकी रूचि अस्त्र एवं शस्त्र चलाने में कहीं अधिक थी। बहुत कम उम्र में ही दुष्यंत सभी प्रकार के अस्त्र, शस्त्र चलाना सीख चुका था। वह अपने से उम्र और शरीर में कहीं बड़े योद्धाओं के साथ युद्ध कला का अभ्यास करता था। जब वह लड़ता था तो उसे देखकर देखने वालों को आश्चर्य होता था और राजा बाहुबल का सर गर्व से उँचा हो जाता था। मैदान में दुष्यंत का अभ्यास देखने के लिए बाहुबल प्रायः आ जाया करते थे। आज भी बहुत से अधिकारियों के साथ बाहुबल वहाँ मौजूद थे
वाह दुष्यंत वाह, तुमने बहुत ही थोड़े समय में बहुत कुछ सीख लिया है, तुम्हारा प्रदर्शन तो मेरी सोच से कहीं अधिक आश्चर्यजनक था” बाहुबल अपने आसन से उठ खड़े हुए थे। “सही कहा ना मैंने विक्रम?” बाहुबल ने अपने छोटे भाई विक्रम की ओर देखते हुए कहा
“निसंदेह महाराजदुष्यंत की वीरता के कारण पूरे विश्व में एक दिन सूर्यनगरी का नाम होगा।” विक्रम ने गर्व से कहा था। दुष्यंत ने अभी बस बारह वर्ष की आयु पूरी की थी और इतनी कम उम्र में एक साथ तीन योद्धाओं को धूल चटा के विजेता की भाँति वह राजा बाहुबल के सामने खड़ा था
आओ पुत्रमेरे गले लग जाओ।” बाहुबल ने आगे बढ़कर उसे सीने से लगा लिया
बाल्यकाल से ही उसमें योद्धा बनने के सभी गुण उपस्थित थेसाथ ही साथ वह चतुर और अपने पिता राजा बाहुबल का आज्ञाकारी पुत्र भी था। सब कुछ था उसके पास, स्नेह करने वाले पिताइतना बड़ा साम्राज्य, सैकड़ों सेवकसब कुछ बहुत भाता था दुष्यंत को जब वो कभी बाहर निकलता था तो सभी का उसके सामने सर झुकानाउसके रास्ते पर चलने पर सब का हट जानाएक आदेश पर सैकड़ों सेवकों का आ जाना उसे बहुत प्रसन्नचित्त करता था। दुष्यंत का बाल्यकाल बहुत आनंद में व्यतीत हो रहा था और भविष्य के लिए भी वह निश्चित था। उसने सदा यही जाना था कि एक दिन उसे अपने पिता का स्थान प्राप्त होनी है और वह भी अपने पिता की भाँति एक महान राजा के रूप में जाना जाएगा। इसके विपरीत बाहुबल ने दुष्यंत के लिए कुछ और ही सोचा था। जिस प्रकार बाहुबल ने अपना जीवन मानव धर्म को समर्पित कर दिया था उसी प्रकार वे दुष्यंत के जीवन को भी सार्थक बनाना चाहते थे, और इसलिए उन्होंने दुष्यंत के भविष्य के लिए एक निर्णय ले लिया। उन्होंने अपने इकलौते पुत्र को पूरी तरह मानव जाति के कल्याण हेतु समर्पित करने की कामना की थी और इसके लिए सबसे सही रास्ता धर्मरक्षक के रूप में ही था
बाहुबल ने अपने निर्णय को दिशा देने के बारे में सोचा और इसके लिए आवश्यक था महायोद्धा शौर्य से मिलना। बाहुबल ने शौर्य को बुलवाया और उनसे अपने मन की बात कही
महाराज, मैं आपकी सोच का बहुत सम्मान करता हूँ परंतु... मैं आपको अभी किसी भी प्रकार का आश्वासन देने की स्थिति में नहीं हूँ।” शौर्य के जवाब से बाहुबल थोड़ा विचलित से हो गये
परंतु महायोद्धा, क्योंक्या दुष्यंत में कोई कमी बाकी है?” बाहुबल ने पूछा
नहीं महाराज, दुष्यंत बहुत ही वीर बालक है और इसमें कोई संदेह नहीं है परंतु…” शौर्य इतना कहकर कुछ रुके
परंतु क्या महायोद्धा?”
महाराज, क्योंकि किसी भी धर्मरक्षक के चुनाव का सबसे पहला नियम यही है कि इसमें किसी की संस्तुति के लिए कोई स्थान नहीं होता है। दुष्यंत बहुत कुशल है परंतु एक धर्मरक्षक होने के लिए जो गुण आवश्यक हैं वह दुष्यंत में हैं या नहीं, यह हम और आप तय नहीं कर सकते।” शौर्य ने कहा तो बाहुबल थोड़ा चिंतित से हो गये
“तो यह कैसे जाना जाएगा महायोद्धा? आप चाहें तो दुष्यंत की परीक्षा ले सकते हैं। मुझे विश्वास है कि दुष्यंत आपके हर मानदंड पर खरा उतरेगा, आप एक बार दुष्यंत को अवसर तो दीजिए।” बाहुबल अभी भी आशाहीन होने को तैयार नहीं थे
महाराज, धर्मरक्षक के लिए ऐसी कोई चयन प्रक्रिया होती ही नहीं है।”
कोई तो कसौटी होगी महायोद्धा शौर्यकोई तो चयन प्रक्रिया होगी।”
महाराज, जीवन में अपने आप कुछ घटनाएं और परिस्थितियाँ मिलकर अनजाने में ही धर्मरक्षक की परीक्षा लेती हैं जो सोच विचार कर या जानबूझकर संभव नहीं हो सकता है।” शौर्य ने अपनी विवशता बताई
महायोद्धा, कोई तो रास्ता होगादुष्यंत को मानव जाति के हित में समर्पित करने का।” बाहुबल अभी भी विनती कर रहे थे
हैं महाराजकोई एक नहीं बल्कि सहस्त्र रास्ते हैं मानव कल्याण हेतु कुछ करने के लिए। महाराज, केवल धर्मरक्षक बन कर ही मानव जाति के लिए कुछ किया जा सकता है यह कोई आवश्यक नहीं है। क्या आपने अपने जीवन में बिना एक धर्मरक्षक हुए यह सब नहीं किया हैयह मैं नहीं हर कोई जानता है।” शौर्य बाहुबल को समझाने का प्रयास कर रहे थे। “दुष्यंत को महलों में रहने की आदत हैहर समय उसके आस पास सैकड़ों सेवक रहते हैंउसे आदत हो चुकी है हर सुख सुविधा की। जंगल का जीवन अपनाना उसके लिए थोड़ा कठिन होगा परंतु मुझे पूरा भरोसा है कि दुष्यंत आपके स्थान पर आकर आपकी अपेक्षाओं के साथ अन्याय नहीं करेगा।”
महायोद्धा, मैंने अपने जीवन में थोड़ा या बहुत जो भी किया वह आपके सामने कुछ भी नहीं है। मेरी आपसे विनती हैआप बस एक बार दुष्यंत को अपनी परीक्षा में आजमा के देखिए वह आपको निराश नहीं करेगा।” बाहुबल शौर्य को मनाने का हर संभव प्रयास कर रहे थे। “मेरी आपसे विनती है आप इतना शीघ्र कोई निर्णय ना लें। आपको जितना समय चाहिए आप लीजिए परंतु उसे अपनी योग्यता को सिद्ध करने का एक अवसर मिलना चाहिए। मैं आपको वचन देता हूँ कि इन महलों, सेवकों या इन सुख सुविधाओं को मैं दुष्यंत की दुर्बलता नहीं बनने दूंगा। अतिशीघ्र उसे इनके बिना रहना मैं स्वयं सीखा दूंगा।”
महाराज, आप मुझे दुविधा में डाल रहे हैं...” शौर्य भी अपने आप को विचित्र सी स्थिति में महसूस कर रहे थे
अपने आप में कहीं गुम दुष्यंत को पता ही नहीं चला कि कब विधुत उसके पास पहुँच गया था
कहाँ खोए हो दुष्यंतमैं कब से तुम्हें खोजने का प्रयास कर रहा हूँ।” विधुत ने दुष्यंत के कंधे पर हाथ रखते हुए कहा तो अचानक उसकी तंद्रा भंग हुई
विधुत, तुम कब आए?” दुष्यंत ने चौंकते हुए विधुत से पूछा
मैं तो बस अभी ही आया हूँ परंतु बहुत देर से तुम्हें खोजने का प्रयास कर रहा था। तुम यहाँ एकांत में क्या कर रहे हो मित्र?”
कुछ नहीं विधुत, तुम बताओ क्या कोई विशेष बात है जो तुम मुझे ढूंढ रहे थे?” दुष्यंत ने उठते हुए प्रश्न किया
शायद कुछ विशेष ही है क्योंकि गुरु जी ने तुम्हें शीघ्र बुलाने को कहा है। अब बिना विलंब के हमें गुरु जी के पास चलना चाहिए क्योंकि तुम्हें ढूँढने में समय पहले ही व्यर्थ हो चुका है।” विधुत जल्दी में था
“ओह हाँ, मैं तो भूल ही गया था, मुझे तो सिहोट के लिए निकलना है।” दुष्यंत को जैसे कुछ स्मरण हुआ। “चलो जल्दी, मैं भी ना जाने कैसे भूल गया?”
“सिहोट! वो क्यों?”
“गुरु जी ने वहाँ एक कारीगर को कुछ शस्त्र बनाने का काम सौंपा था और उसने आज का समय दिया था। वो शस्त्र लेने के लिए मुझे जाना था।” दोनों साथ में आश्रम की ओर चल पड़े